पटना: जदयू ने बिहार विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी प्रसाद यादव की एक कुख्यात अपराधी के साथ सेल्फी पर प्रश्न उठाते हुए झारखंड के पुलिस महानिदेशक को पत्र लिखकर आशंका व्यक्त की है कि राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद को जेल से भगाने की साजिश रची जा सकती है. Also Read - यूपीए का हिस्‍सा बने उपेंद्र कुशवाहा, 'दिलों के बंधन' से महागठबंधन को मिलेगी मजबूती!

जदयू प्रवक्ता और बिहार विधान परिषद सदस्य नीरज कुमार ने झारखंड के पुलिस महानिदेशक को लिखे पत्र में आरोप लगाया कि राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद के पुत्र तेजस्वी इन दिनों लगातार अपराधियों से मिल रहे हैं. ऐसे में आशंका है कि कहीं वह अपराधियों का एक दल बनाकर अपने पिता को जेल से फरार करवाने की साजिश न करें. Also Read - बिहार: दशहरा में पोस्‍टर वॉर, राजद ने सीएम नीतीश को बताया रावण तो कांग्रेस के निशाने पर पीएम मोदी

लालू चारा घोटाला के कई मामलों में झारखंड की राजधानी रांची के एक जेल में सजा काट रहे हैं. नीरज ने आरोप लगाया कि सीवान में तेजस्वी सजायाफ्ता पूर्व सांसद मोहम्मद शहाबुद्दीन के घर गये और उसके बाद एक आम सभा को सम्बोधित किया. उन्होंने आरोप लगाया कि अपनी यात्रा के क्रम में गोपालगंज पहुंचे तेजस्वी ने दुर्दांत और कई संगीन मामलों के आरोपी सुरेश चौधरी के साथ सेल्फी ली, जो सोशल साइट पर वायरल हो गई है. Also Read - Sharad Yadav meets Lalu in jail for Rajya Sabha seat: JDU | राज्यसभा सीट के लिए शरद यादव बेचैन, इसलिए जेल में लालू से मिले: जदयू

नीरज ने आरोप लगाया कि यही नहीं जब तेजस्वी जी आमसभा को सम्बोधित कर रहे थे, तब चौधरी उनके मंच पर ‘विराजमान’ होकर मंच की ‘शोभा’ बढ़ा रहा था. ऐसे में दोनों के आत्मीय सम्बन्धों को समझा जा सकता है. उन्होंने झारखंड के पुलिस महानिदेशक से अनुरोध किया है कि इस मामले को संज्ञान में लेते हुए ऐसी कथित साजिश को असफल करने के लिए यथोचित कार्रवाई करें. उल्लेखनीय है कि बिहार के पूर्व उप मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव इन दिनों ‘संविधान बचाव’ यात्रा पर निकले हुए हैं.