नई दिल्ली: गुजरात में उत्तर भारतीय लोगों पर हमले की घटनाओं की निंदा करते हुए कांग्रेस के वरिष्ठ नेता व बिहार राज्य के प्रभारी शक्ति सिंह गोहिल ने गुजरात में उत्तर भारतीयों पर हुए हमलों को लेकर गुजरात सरकार को आड़े हाथों लिया. बुधवार को उन्होंने कहा कि अगर राज्य सरकार कानून-व्यवस्था बरकरार रखने में सक्षम नहीं है तो वहां राष्ट्रपति शासन लगाया जाना चाहिए.Also Read - UP: BJP समर्थित बागी सपा विधायक नितिन अग्रवाल बड़े अंतर से यूपी विधानसभा के उपाध्यक्ष चुने गए, CM योगी ने SP पर हमला किया

Also Read - Rahul Gandhi Defamation Case: राहुल गांधी के खिलाफ मानहानि मामले में सुनवाई 13 नवंबर तक टली, जानिए पूरा मामला

यूपी-बिहार के लोगों पर हमले को राहुल ने बेरोजगारी और जीएसटी से जोड़ा, अल्पेश पर साधी चुप्पी Also Read - Maharashtra: नांदेड़ से तीन बार सांसद रह चुके भास्‍करराव खतगांवकर ने BJP छोड़ी, कांग्रेस में वापस लौटे

अल्पेश ठाकोर पर लगे आरोप को किया ख़ारिज

उन्होंने कांग्रेस नेता अल्पेश ठाकोर पर हिंसा भड़काने के आरोपों को खारिज किया और विजय रुपाणी सरकार को चुनौती दी कि अगर ठाकोर हिंसा के लिए जिम्मेदार हैं तो उनको गिरफ्तार करें. गोहिल ने संवाददाताओं से कहा, ‘मेरे लिए और हर गुजराती के लिए शर्म की बात है कि भाजपा ने सोची-समझी साजिश के तहत उत्तर प्रदेश और बिहार के लोगों के खिलाफ मुहिम चलाई. मेरे पास कुछ सबूत है कि फेसबुक और व्हाट्सऐप पर भाजपा के लोग ये मुहिम चला रहे हैं.’

अगर अल्पेश जिम्मेदार तो उन्हें जेल में डालो

उन्होंने कहा, ‘सरकार के पास कोई मुद्दा नहीं है. अपनी विफलताओं को छिपाने के लिए यह सोची समझी साजिश रची गई. उन्होंने कहा, ‘अगर वहां की सरकार कानून-व्यवस्था बरकरार नहीं सकती है तो उसे बर्खास्त कर राष्ट्रपति शासन लगाया जाए.’

दिहाड़ी मजदूर को खुदाई में मिला 1.5 करोड़ का हीरा, इस तरह बदल गई जिंदगी

गोहिल ने कहा, ‘प्रधानमंत्री जी उत्तर प्रदेश से चुनाव जीतते हैं और उत्तर प्रदेश के लोगों की गुजरात में सुरक्षा नहीं होती. उनको जवाब देना चाहिए.’ कांग्रेस के बिहार प्रभारी ने कहा, ‘बिहार और गुजरात का बहुत पुराना रिश्ता है. गुजरात गांधी जी की जन्मस्थली है और बिहार उनकी कर्मभूमि रही. दोनों राज्यों का रिश्ता बहुत गहरा है.’

अल्पेश ठाकोर पर लग रहे आरोपों को खारिज करते हुए उन्होंने कहा, ‘ठाकोर ने खुद वीडियो पोस्ट कर लोगों से अपील की है कि शांति बनाए रखें. अगर वह जिम्मेदार हैं तो उन पर प्राथमिकी दर्ज करो और जेल में डालो. लेकिन यह सरकार ऐसा नहीं करेगी क्योंकि उसे सिर्फ राजनीति करनी है.’ (इनपुट भाषा)