नई दिल्ली: लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) के नेता चिराग पासवान (Chirag Paswan) ने अपने पिता और पार्टी के संस्थापक रामविलास पासवान ( Ram Vilas Paswan ) की जयंती (birth anniversary ) पर 5 जुलाई से बिहार के हाजीपुर से आशीर्वाद यात्रा (Aashirvaad Yatra) शुरू करने की रविवार को घोषणा की.Also Read - Bihar: CM नीतीश कुमार बोले- जाति आधारित जनगणना कम से कम एक बार जरूर करवानी चाहिए

चिराग के नेतृत्व वाले खेमा ने प्रतिद्वंद्वी समूह से जारी लड़ाई के बीच सड़क पर उतरने का फैसला किया है. एलजेपी की कार्यकारिणी में कार्यकारिणी ने रामविलास पासवान के लिए भारत रत्न की मांग का एक प्रस्ताव भी पारित किया गया है. Also Read - Bihar News: गया जिले में रात में भयंकर हादसा, इनोवा कार- हाईवा की भिड़ंत में 7 की मौत

Also Read - Bihar: एनआईए ने लश्कर-ए-मुस्तफा के दो आतंकियों को बिहार से किया गिरफ्तार

लोजपा की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक के बाद चिराग ने इसकी घोषणा की. इस बैठक में चिराग के नेतृत्व पर भरोसा जताया गया और पार्टी के संविधान के खिलाफ काम करने के लिए उनके चाचा पशुपति कुमार पारस के खेमे पर निशाना साधा गया. चिराग ने कहा है कि राष्ट्रीय कार्यकारिणी के 90 प्रतिशत से ज्यादा सदस्य बैठक में मौजूद थे.

चिराग पासवान ने कहा कि हाजीपुर उनके पिता की कर्मभूमि थी. यह यात्रा समूचे राज्य से गुजरेगी और इसके बाद पार्टी की राष्ट्रीय परिषद आयोजित होगी. कार्यकारिणी ने रामविलास पासवान के लिए भारत रत्न की मांग का एक प्रस्ताव भी पारित किया. हाजीपुर से यात्रा शुरू करने का फैसला महत्वपूर्ण है, क्योंकि रामविलास पासवान कई बार यहां से लोकसभा के लिए चुने गए और अब सदन में इस सीट का प्रतिनिधित्व पारस कर रहे हैं.