नई दिल्‍ली: लोकसभा चुनाव 2019 में बिहार की बेगूसराय सीट पर लड़ाई दिलचस्‍प हो गई है. क्‍योंकि यहां से सीपीआई की ओर से कन्‍हैया कुमार मैदान में हैं, तो महागठबंधन से आरजेडी के तनवीर हसन चुनावी मैदान में हैं. वहीं भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने इस सीट पर केंद्रीय मंत्री और वरिष्‍ठ नेता गिरिराज सिंह को उतारा है. यहां से नाम घोषित होने के बाद से ही वे बार-बार पार्टी आलाकमान से सीट बदलने की गुहार लगा रहे हैं. ऐसी चर्चा है कि बेगूसराय सीट से कन्‍हैया कुमार का नाम सामने आने के बाद से ही यहां मुकाबला त्रिकोणीय हो गया है.

Lok Sabha Election 2019: टिकट कटने से नाराज हैं BJP के ये प्रमुख नेता

केंद्रीय मंत्री और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेता गिरिराज सिंह का नवादा सीट बदलकर उन्हें बेगूसराय से उम्मीदवार बनाए जाने पर उनका दर्द एक बार फिर छलक उठा है. उन्होंने मंगलवार को कहा कि केंद्रीय नेतृत्व से उन्हें कोई शिकायत नहीं है, लेकिन स्वाभिमान से समझौता नहीं कर सकता. उन्होंने कहा कि बिहार के प्रदेश नेतृत्व को इसका जवाब देना चाहिए. इस बीच, उनके बयान पर बेगूसराय के वामपंथी दलों के उम्मीदवार कन्हैया ने तंज कसा है. केंद्रीय मंत्री ने कहा कि उनकी पीड़ा है कि उनकी सीट बदलने के पूर्व उन्हें विश्वास में नहीं लिया गया. उन्होंने कहा कि मैं तो पिछली बार भी बेगूसराय से ही चुनाव लड़ना चाहता था, परंतु नेतृत्व ने मुझे नवादा भेजा था. बेगूसराय मेरी कर्मभूमि है.

Lok Sabha Election 2019: यूपी में पहले चरण के चुनाव के लिए 49 उम्मीदवारों के पर्चे खारिज

कन्हैया ने गिरिराज को ‘पाकिस्तान टूर एंड ट्रैवेल्स विभाग’ का वीजा-मंत्री बताते हुए बोला हमला
उन्होंने कहा कि बेगूसराय से चुनाव लड़ना मेरे लिए सौभाग्य की बात है. बिहार में किसी नेता का सीट नहीं बदला चाहे वह मंत्री हो या सांसद, लेकिन मेरी सीट बदली गई. मैं नया कार्यकर्ता नहीं हूं. बेगूसराय लोकसभा क्षेत्र से भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (भाकपा) के उम्मीदवार कन्हैया कुमार ने गिरिराज सिंह को ‘पाकिस्तान टूर एंड ट्रैवेल्स विभाग’ का वीजा-मंत्री बताते हुए कटाक्ष किया. जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय छात्रसंघ (जेएनयूएसयू) के पूर्व अध्यक्ष कन्हैया ने ट्वीट किया, “बताइए, लोगों को जबरदस्ती पाकिस्तान भेजने वाले ‘पाकिस्तान टूर एंड ट्रैवेल्स विभाग’ के वीजा-मंत्री जी नवादा से बेगूसराय भेजे जाने पर ‘हर्ट’ हो गए. मंत्री जी ने तो कह दिया “बेगूसराय को वणक्कम”.

अमेठी में गांधी परिवार से छूटा ‘वफादार’ का साथ, राहुल के खिलाफ हारून लड़ेंगे चुनाव