बिहार के राजनीतिक हलकों में सोमवार को उस समय अटकलों का बाजार गर्म हो गया जब चिराग पासवान की पार्टी लोजपा के एक मात्र विधायक ने जदयू के वरिष्ठ नेता और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के विश्वासपात्र मंत्री अशोक चौधरी के आवास पर उनसे मुलाकात की.Also Read - चिराग पासवान ने 'जहरीली शराब' को लेकर राज्यपाल को लिखी चिट्ठी, बिहार में राष्ट्रपति शासन लगाने की मांग की

हालांकि, चौधरी ने मटिहानी के लोजपा विधायक राज कुमार सिंह की उपस्थिति को सामान्य तौर पर लेने की बात करते हुए पत्रकारों से कहा, ‘वह मेरे मित्र हैं और मुझे 15 से अधिक वर्षों से जानते हैं. वह बस गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या पर एक क्रांतिकारी पर आधारित पुस्तक के लोकार्पण में शामिल होने के लिए यहां आए थे.’ Also Read - Bihar में बढ़ाई गई कोरोना पाबंदियां, 6 फरवरी तक लागू रहेंगे सभी मौजूदा प्रतिबंध; जानें क्या बोले नीतीश कुमार

उन्होंने यह भी कहा, ‘‘आपको उनसे यह पूछने की आवश्यकता है कि क्या उनके यहां आने से जदयू और लोजपा के बीच समीकरणों में बदलाव का संकेत है. इस तरह के सवाल का जवाब देना मेरे लिए जरूरी नहीं है.’ Also Read - Bihar Liquor News: बिहार में शराबबंदी कानून में ढील की तैयारी में नीतीश सरकार! पहली बार शराब के साथ पकड़े गए तो सिर्फ...

सिंह ने जदयू के विधायक नरेंद्र कुमार सिंह के खिलाफ चुनाव लड़ा था, जिन्हें उन्होंने 100 से कम मतों के अंतर से हराया था.

चौधरी के आवास पर आने के बारे में पूछे जाने पर, सिंह ने कहा कि वह मंत्री को उन दिनों से जानते हैं जब वे दोनों कॉलेज में थे.

लोजपा विधायक के अलावा, चौधरी के आवास पर मौजूद लोगों में चकाई के निर्दलीय विधायक सुमित सिंह भी शामिल थे, जिन्होंने राजग को अपना पूर्ण समर्थन देने की घोषणा की है.

(इनपुट भाषा)