Madhepura Vidhan Sabha Result 2020: बिहार विधानसभा चुनाव 2020 में अभी तक मात्र 30 प्रतिशत वोटों की गिनती हो पाई है. चुनाव आयोग ने कहा कि रिजल्ट के घोषित होने में विलंब हो सकता है. ऐसे में बिहार की ज्यादातर अहम और चर्चित सीटों पर काउंटिंग जारी है. ऐसे में माधेपुरा सीट (Madhepura Vidhan Sabha Seat) पर भी मतगणना की जा रही है. माधेपुर सीट से चुनावी मैदान में पप्पू यादव (Pappu Yadav) हैं जो लगातार काफी वक्त से अपने विरोधियों से पीछे चल रहे हैं. पप्पू यादव और उनके प्रतिद्वंदियों के बीच वोटों का मार्जिन लगभग 10-15 हजार का है. ऐसे में माधेपुरा सीट पर सभी की निगाहें टिकी हुई हैं क्योंकि अबतक सिर्फ 30 प्रतिशत वोटों की ही गिनती की जा सकी है. माधेपुरा सीट से RJD ने चंद्रशेखर (Chandrashekhar) को अपना उम्मीदवार बनाया है. वहीं जदयू ने निखिल मंडल (Nikhil Mondal) को मैदान में उतारा है. Also Read - लालू प्रसाद यादव की जमानत याचिका पर कल हाईकोर्ट में सुनवाई, क्या लालू होंगे रिहा?

पप्पू यादव सुबह पहले चरण की मतगणना के बाद से लगातार निखिल मंडल और चंद्रशेखर से पीछे रहे हैं. अगर हालिया 9वें और 10वें राउंड की बात करें तो आरजेडी के चंद्रशेखर 20,659 वोटों से सबसे आगे चल रहे हैं. निखिल मंडल 19,685 वोटों के साथ दूसरे नंबर पर हैं. वहीं पप्पू यादव 11,201 वोटों से तीसरे स्थान पर हैं. माधेपुरा सीट पर सुबह से ही असल मुकाबला चंद्रशेखर और निखिल मंडल के बीच देखने को मिल रहा है. लेकिन मात्र 30 प्रतिशत वोटों की हुई गिनती के आधार पर यह कह पाना मुश्किल है कि माधेपुरा सीट किसकी झोली में गिरेगी. ऐसे में माधेपुरा विधानसभा सीट पर हो रहा चुनाव और भी रोमांचक हो चला है. Also Read - ऑडियो पर बवाल: JDU ने कहा- लालू प्रसाद आदतन अपराधी हैं, सुप्रीम कोर्ट मामले को संज्ञान में ले

बता दें कि साल 2015 में हुए विधानसभा चुनाव में आरजेडी के चंद्रशेखर यहां से विधायक चुके गए थे. 2015 में चंद्रशेखर ने भाजपा ने विजय कुमार को 37 हजार वोटों से हराया था. यही नहीं चंद्रशेखऱ साल 2010 में यहां से विधायक रह चुके हैं. अगर यहां जातीय समीकरण की बात करें तो इस सीट पर मुस्लिम, यादव, रविदास और कोइरी वोटरों की संख्या अच्छी खासी है. ऐसे में अब यह देखना होगा कि इनका वोट किसके पक्ष में ज्यादा जाता है. Also Read - बिहार में मुस्लिम विधायकों को लेकर उथल-पुथल तेज, CM नीतीश के इस कदम से ओवैसी और कांग्रेस टेंशन में