मुजफ्फरपुरः जिले के मीनापुर प्रखंड के धर्मपुर में एक दर्दनाक हादसा हुआ है. यहा के एक सरकारी स्कूल से छुट्टी के बाद निकलते हुए बच्चों को अनियंत्रित बोलेरो ने रौंद दिया, जिसमें नौ बच्चों की घटनास्थल पर ही मौत हो गई और 20 बच्चे घायल हो गए. इसमें से चार की स्थिति अभी भी गंभीर बतायी जा रही है. ये घटना शनिवार दोपहर बाद हुई. हादसा मुजफ्फरपुर के एनएच पर अहियापुर के समीप हुई, जहां झपहां स्थित स्कूल की एक बजे छुट्टी हुई थी और बच्चे घर की ओर जा रहे थे कि अनियंत्रित बोलेरो ने उन्हें रौंद दिया. इनमें से नौ बच्चों की मौत हो गई, घायल बच्चों को स्थानीय लोगों ने एसकेएमसीएच पहुंचाया जहां उनका इलाज चल रहा है, जहां चार बच्चों की हालत गंभीर बताई जा रही है.Also Read - Jammu and Kashmir: आतंकवादियों ने कश्मीर में फिर बिहार के तीन लोगों को मारी गोली, दो की मौत एक की हालत गंभीर

इस बीच मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने घटना पर दुख जताते हुए कहा है कि मारे गए बच्चों के परिजनों को चार-चार लाख रुपये की सहायता देने की घोषणा की है. Also Read - पटना में चर्चित मॉडल मोना राय को बाइक सवार हमलावरों ने गोली मारी, क्‍या मर्डर का है बिहार के टॉप नेताओं से कनेक्‍शन?

Also Read - बिहार- यूपी से गए थे कश्‍मीर परिवार को गरीबी से निकालने, आतंकियों ने छीन लीं सांसें, घरों में पसरा मातम

एसएसपी विवेक कुमार ने घटना की पुष्टि की है. उन्होंने बताया कि मीनापुर थाना क्षेत्र के धर्मपुर स्थित प्राथमिक विद्यालय के बच्चे छुट्टी के बाद सड़क पार कर रहे थे तभी एक बेलगाम बोलेरो ने उन्हें रौंद दिया.

मीडिया रिपोर्स के मुताबिक धर्मपुरी विद्यालय में छुट्टी के बाद बच्चे घर लौट रहे थे. मुजफ्फरपुर – शिवहर मार्ग पर तेज गति से आ रही बोलेरो ने इन बच्चों को कुचलती चली गई. जब तक कोई कुछ समझ पाता कई बच्चे इसकी चपेट में आ गए. बोलेरो चालक का भी गाड़ी पर नियंत्रण नहीं रहा. इससे बोलेरो भी पलट गई. इसमें भी सवार कई लोग घायल हो गए. बच्चों को जब तक एसकेएमसीएच ले जाया जाता तब तक नौ ने दम तोड़ दिया.

अपने बच्चों को खोने के बाद विलाफ करती महिलाएं.

अपने बच्चों को खोने के बाद विलाफ करती महिलाएं.

घटनास्थल से लेकर एसकेएमसीएच तक कोहराम मच गया है. घटना के बाद अफरातफरी मच गई. सूचना मिलते ही आसपास के लोग मौके की ओर दौड़े और घायल बच्चों को अस्पताल पहुंचाया. उधर, सूचना मिलते ही बच्चों के परिजन अस्पताल की ओर दौड़े. परिजनों की चीख पुकार से अस्पताल में कोहराम मच गया.