पटना: बिहार के पटना के नालंदा मेडिकल कॉलेज अस्पताल (Nalanda Medical College Hospital) में एक एमबीबीएस (MBBS) के आखिरी साल के स्टूडेंट की कोरोना संक्रमण से मौत हो गई है. गौरतलब है कि ये छात्र कुछ दिन पहले ही कोरोना वैक्सीन (Corona Vaccine) लगवा चुका था. उसने वैक्सीन का पहला डोज़ लिया था. मेडिकल कॉलेज के 10 अन्य छात्र कोरोना संक्रमित (Corona Virus) बताए जा रहे हैं. इस घटना सेहड़कंप मच गया है.Also Read - देश में Omicron BA.4 की दस्तक, हैदराबाद में मिला पहला केस, वैज्ञानिकों ने कही ये बात

मेडिकल कॉलेज के अनुसार एमबीबीएस अंतिम वर्ष के छात्र शुभेंदु शेखर की मौत उनके गांव बेगूसराय के दहिया में हुई है. एमबीबीएस 2016 सत्र के छात्र शुभेंदु कॉलेज के हॉस्टल में रहते थे. प्राचार्य डॉ. हीरा लाल महतो ने बताया कि शुभेंदु शेखर ने पिछले महीने 24 तारीख को सर्दी-खांसी से पीड़ित होने के बाद अपना RTPCR सैंपल दिया था. उसके बाद वे अपने गांव चले गए. रविवार को उनकी रिपोर्ट पजिटिव आई. सोमवार की रात उनकी मौत की खबर यहां आई. उन्होंने बताया कि इसके बाद उनके संपर्क में आए अन्य छात्रों की जांच करवाई गई. Also Read - अभी तक नहीं हुए कोरोना के शिकार; इसे किस्मत न मानें, हो सकती हैं ये वजह

एनएमसीएच के एक वरीय चिकित्सक ने बताया कि, “यहां के आठ से 10 छात्र कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं.” इधर, राज्य के स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय ने छात्र की मौत पर दुख जताया है. उन्होंने कहा, “कोई भी मौत दुखद होती है. किसी चिकित्सक या चिकित्सकर्मी की मौत होती है तो इससे समाज को काफी नुकसान होता है. कुछ अन्य मेडिकल छात्रों के भी कोरोना संक्रमित होने की बात कही गई है. विभाग इस पर नजर रखे हुए है.” Also Read - खाद्यान्न की जमाखोरी करने वाले देशों को भारत की यूएन में खरी-खरी, कहा- गेहूं को कोरोना वैक्सीन न समझें पश्चिमी देश

उन्होंने कहा कि सरकार कोरोना संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए हर मुमकिन प्रयास कर रही है. उन्होंने कहा कि लोगों को कोरोना से जागरूक करने के लिए भी लगातार काम किया जा रहा है. इधर, कोरोना वैक्सीन को लेकर विपक्ष द्वारा उठाए गए सवाल पर उन्होंने कहा कि यह राजनीति के अलावा कुछ भी नहीं है.