‘Mission Nitish’ campaign of JDU: जेडीयू अब बिहार ही नहीं बल्कि पूरे देश में ‘मिशन नीतीश’ अभियान चलाने जा रही है. जेडीयू की कवायद है कि नीतीश कुमार अब राष्ट्रीय नेता बनें. इसके तहत ही प्रचार शुरू किया जा रहा है. पार्टी अब अन्य राज्यों में संगठन का विस्तार करने की योजना बनाकर ‘मिशन नीतीश’ की घोषणा कर दी है. जदयू संसदीय दल के नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री उपेंद्र कुशवाहा ने कहा कि पूरे देश में ‘मिशन नीतीश’ चलाया जाएगा औए इसके तहत देश में राष्ट्रीय स्तर पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) को खड़ा किया जाएगा. उन्होंने कहा कि देश के स्तर पर नीतीश कुमार के व्यक्तित्व का प्रसार करना तथा उनकी स्वीकार्यता बढ़ाने के लिए कार्यकर्ता निकले हैं. उन्होंने कहा कि पार्टी को पूरे बिहार और देश में नंबर वन पार्टी बनाएंगे.Also Read - अंतर्कलह से जूझ रही कांग्रेस से भाजपा का मुकाबला करने की उम्मीद करना बेमानी: उमर अब्दुल्ला

पार्टी की पटना में आयोजित राष्ट्रीय परिषद की बैठक में मुख्यमंत्री और पार्टी के पूर्व अध्यक्ष नीतीश कुमार ने कहा था कि पार्टी के सभी नेता पार्टी को राष्ट्रीय दल बनाने का संकल्प लें. इसके लिए चार राज्यों में पार्टी को मान्यता मिलना जरूरी है. उन्होंने कहा था कि पार्टी के विस्तार और मजबूती के लिए सभी नेताओं को अन्य राज्यों में जाना चाहिए. उन्होंने यह भी कहा कि जरूरत पडे तो वे भी जाएंगें. Also Read - पंजाब के बाद क्या राजस्थान और छत्तीसगढ़ में होगा उलटफेर, कैसी है कांग्रेस की तैयारी?

नीतीश के इस बयान के बाद जदयू अब अन्य राज्यों खासकर राज्यों में जिन में जल्द ही चुनाव होने वाले हैं, उस पर खास नजर रख रही है. जदयू ने राष्ट्रीय परिषद की बैठक में उत्तर प्रदेश और मणिपुर विधानसभा चुनाव में अपने उम्मीदवारों को मैदान में उतारने के प्रस्ताव पर मुहर लगाई है. जदयू उत्तर प्रदेश में राजग के घटक दल के रुप में चुनाव लड़ना चाहता है, लेकिन अगर गठबंधन को लेकर बात नहीं बनी तो अकेले भी मैदान में उतरने की तैयारी में है. Also Read - क्या कांग्रेस छोड़ बीजेपी में शामिल होंगे अमरिंदर सिंह? इस्तीफे के बाद बताया फ्यूचर प्लान

जदयू संसदीय बोर्ड के अयक्ष उपेंद्र कुशवाहा ने पार्टी के राष्ट्रीय परिषद की बैठक में पांच राज्यों में होने वाले विाानसभा चुनाव को लेकर घोषणा कर चुके हैं. उन्होंने तेवर दिखाते हुए कहा कि इन राज्यों में जदयू को अभी गठबांन की चिंता किये बगैर तैयारी में जुट जाना चाहिए. उल्लेखनीय है कि जदयू भाजपा और दो अन्य छोटे दलों के साथ मिलकर बिहार में सरकार चला रही है. पिछले साल हुए विधानसभा चुनाव में जदयू राज्य में तीसरे नंबर की पार्टी बन गई है. राजग में भी भाजपा सबसे अधिक सीट जीतकर ‘बड़े भाई’ की भूमिका में है.