नई दिल्ली: कांग्रेस अपनी खोई सत्‍ता को पाने के लिए हर मुमकिन कोशिश को परवान चढ़ाना चाहती है तो उसकी चुनावी नैया में सवार होने के लिए कुछ दबंग छवि वाले नेता लाइन लगाए हुए नजर आ रहे हैं. कांग्रेस ने यूपी में जहां कुख्‍यात डकैत ददुआ कुर्मी के भाई बाल किशन पटेल को पार्टी में इंट्री देकर संदेश दे दिया है कि उसे दबंग टाइप के नेताओं से कोई परहेज नहीं है तो ऐसे कुछ नेता कांग्रेस में एंट्री मारने की तैयारी में हैं. इनमें से एक हैं बिहार के दबंग छवि के नेता मधेपुरा से सांसद पप्पू यादव. वह कांग्रेस के टिकट पर लड़ने को तैयार हैं, लेकिन फैसला पार्टी आलाकमान को करना है. बता दें कि पप्‍पू यादव की पत्‍नी रंजीत रंजन सुपौल लोकसभा सीट से कांग्रेस पार्टी की ही सांसद हैं. दरअसल, यादव ने 2014 का लोकसभा चुनाव आरजेडी के टिकट पर लड़ा था, लेकिन लालू प्रसाद से मतभेद के चलते पार्टी ने उन्‍हें बाहर का रास्‍ता दिखा दिया था. पप्‍पू यादव ने आरजेडी से निष्‍कासित होने के बाद जनअधिकार पार्टी (जेएपी) का गठन किया था और उसके संरक्षक बन गए थे.

पप्‍पू यादव ने रविवार को कहा कि वह कांग्रेस के टिकट पर लोकसभा चुनाव लड़ना चाहते हैं और इस बारे में अब कांग्रेस नेतृत्व को फैसला करना है. राजेश रंजन उर्फ पप्पू यादव ने कहा, अगर कांग्रेस नेतृत्व चाहेगा, तब हम निश्चित रूप से कांग्रेस में शामिल होने के लिए तैयार हैं.

लालू यादव को बताया बताया बड़ा भाई
यादव ने आरजेडी से चुनावी समझौते के बारे में कहा कि राजद से कोई बात नहीं हुई है, लेकिन वे राजद के मतदाताओं को अपने परिवार का सदस्य मानते हैं, लालू प्रसाद को अपना बड़ा भाई मानते हैं. विचारधारा भले ही अलग अलग हों.

ये तर्क दिया
देश और मानवता को बचाना महत्वपूर्ण है और सभी समान विचारधारा वाले लोगों एवं दलों को एकजुट होना चाहिए. अब कांग्रेस नेतृत्व को तय करना है. बीजेपी पर हमला करते हुए आरोप लगाया कि देश में आज किसान और युवा संकट से दौर से गुजर रहे हैं, आर्थिक स्थिति कमजोर है. ऐसे में देश में बदलाव की जरूरत है.

कांग्रेस में पार्टी विलय को भी तैयार
पप्‍पू यादव अपने दल जनअधिकार पार्टी का भी कांग्रेस में विलय करने को तैयार है. यादव ने कहा कि विचारों के सामने व्यक्ति का महत्व नहीं होता है. कांग्रेस विचारों पर आधारित पार्टी है. ऐसे में जब देश संकट के समय से गुजर रहा हो, तब देशहित में कांग्रेस नेतृत्व से जो भी आदेश आयेगा, वह उसका पालन करेंगे.

गठबंधन धर्म के हित में काम करूंगा
यह पूछे जाने पर कि मधेपुरा से महागठबंधन के उम्मीदवार के तौर पर शरद यादव का चुनाव लड़ना तय माना जा रहा है, ऐसे में उनकी रणनीति क्या होगी, पप्पू यादव ने कहा, गठबंधन के हित में जो भी जरूरी होगा, वह करेंगे. किसी से व्यक्तिगत बैर नहीं है, राजनीति में किसी से कोई व्यक्तिगत रंजिश नहीं होती है.

(इनपुट: भाषा)