मुजफ़्फरपुर. बिहार का मुजफ़्फरपुर जिला एक साल पहले बालिका गृह यौन उत्पीड़न को लेकर जहां देशभर में चर्चा के केंद्र में रहा, वहीं कुछ दिन पहले इंसेफलाइटिस यानी चमकी बुखार से पीड़ित बच्चों की मौत के बाद यह बहस का विषय बना. चमकी बुखार का मामला कुछ महीने पहले ही शांत पड़ा कि अब एक अजीबो-गरीब घोटाले की वजह से इस जिले की फिर चर्चा हो रही है. अब जिस वजह से मुजफ्फरपुर जिला मीडिया की सुर्खियों में आ रहा है, वह है यहां के स्कूलों में सामान खरीद में हुआ घोटाला. जी हां, मुजफ्फरपुर जिले के एक दर्जन से अधिक बालिका आवासीय विद्यालयों में सामानों की खरीद में घोटाला सामने आया है. इन स्कूलों में एक तरफ तो ड्राई फ्रूट्स एक रुपए प्रति किलो के हिसाब से खरीदे गए, वहीं एक अंडे की कीमत 16 रुपए दिखाई गई है.

चमकी बुखार से जागी सरकार, 150 बच्चों की मौत के बाद अब कुपोषण के खिलाफ चलेगा अभियान

बालिका आवास विद्यालयों में सामान की खरीदारी में जिस तरह की गड़बड़ियां सामने आ रही हैं, उसमें शिक्षा विभाग के अधिकारियों और कर्मचारियों के अलावा स्कूलों के शिक्षकों की संलिप्तता साफ झलकती है. क्योंकि स्कूलों में सामान की खरीदारी के लिए बनी व्यवस्था में शुरू से आखिर तक इन्हीं लोगों की सहभागिता रहती है. मुजफ्फरपुर के बालिका आवासीय विद्यालयों में सिर्फ अंडा और ड्राई फ्रूट्स की खरीद में ही गड़बड़ी नहीं की गई, बल्कि अन्य सामान के दामों में भी हेर-फेर नजर आता है. गौर करने वाली बात यह है कि इन विद्यालयों में चना और चना दाल जहां 199 रुपए प्रति किलो की दर से खरीदे गए, वहीं एक अंडे के लिए 16 रुपए तक की कीमत चुकाई गई.

मुजफ्फरपुर स्कैंडलः TISS की रिपोर्ट में बिहार के 20 ‘ठिकाने’ जहां होता है हैवानियत का गंदा खेल, पढ़ें पूरी कहानी

स्थानीय निवासी राजेश कुमार सिंह ने बताया, “यह एक बहुत बड़ा घोटाला है और अगर ठीक से जांच की जाए तो यह चारा घोटाले से भी बड़ा और विचित्र हो सकता है.’’ मुजफ्फरपुर के जिला कार्यक्रम अधिकारी अमरेंद्र कुमार पांडेय ने संवाददाताओं से कहा, “हमने विसंगतियों को गंभीरतापूर्वक लिया है. एक जांच समिति का गठन किया गया है और इसकी रिपोर्ट के आधार पर दोषी पाए जाने वालों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी ”.

उन्होंने कहा, “खरीद समिति का हिस्सा रहे लोग जिन्होंने वस्तुओं की आपूर्ति के लिए एजेंसी को मंजूरी दी थी, इस मामले पर अधिक प्रकाश डाल सकते हैं”. इस बीच, सिंह ने कहा “अगर दो दिनों के भीतर कार्रवाई नहीं की गई तो मैं इस मामले को निगरानी विभाग को सौंप दूंगा.” यह संगठित लूट है और मेरा मानना है कि इसी तरह की अनियमितताएं बिहार के सभी जिलों में हो रही हैं.

(इनपुट – एजेंसी)