बेगूसराय: बिहार की पूर्व समाज कल्याण मंत्री मंजू वर्मा के पति चंद्रशेखर वर्मा ने सोमवार को बेगूसराय के मंझौल व्यवहार न्यायालय में आत्मसमर्पण कर दिया. वर्मा की गिरफ्तारी के लिए पुलिस पिछले कई दिनों से विभिन्न स्थानों पर छापेमारी कर रही थी. पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि वर्मा सुबह मंझौल अनुमंडल व्यवहार न्यायालय पहुंचे, जहां उन्होंने अपर मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी की अदालत में आत्मसमर्पण कर दिया.

मुजफ्फरपुर बालिका आवासगृह में लड़कियों के साथ यौन शोषण के मामले में वर्मा का मुख्य आरोपी ब्रजेश ठाकुर से भी संबंध सामने आया है. इस खुलासे के बाद मंत्री मंजू वर्मा को अपने पद से इस्तीफा देना पड़ा था.

वर्मा के अधिवक्ता सत्यनारायण महतो ने बताया कि आत्मसमर्पण के बाद अदालत ने वर्मा को 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेज दिया. इससे पूर्व वर्मा ने पटना हाई कोर्ट में अग्रिम जमानत याचिका दायर की थी, जिसे अदालत ने खारिज कर दिया था.

आत्मसमर्पण करने के बाद उन्होंने खुद को बेकसूर बताते हुए कहा कि उन्हें फंसाया गया है. हालांकि, उन्होंने यह भी कहा कि अगर हमारे घर से गोली मिली है, तो इसमें मेरी पत्नी का कोई कसूर नहीं है.

बता दें मुजफ्फरपुर बालिका आवासगृह यौनाचार मामले की जांच के दौरान केंद्रीय जांच ब्यूरो ने तत्कालीन समाज कल्याण मंत्री मंजू वर्मा के पति के गांव श्रीपुर में 17 अगस्त को छापेमारी की थी.

इस दौरान चंद्रशेखर वर्मा के आवास से 50 अवैध गोली बरामद की गई थी. इसके बाद सीबीआई ने चेरियाबरियापुर थाने में पूर्व मंत्री और उनके पति के खिलाफ मामला दर्ज कराया था.