पटना। बिहार में चल रहे सियासी ड्रामे के बीच आज आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव ने साफ कर दिया कि डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव इस्तीफा नहीं देंगे. आरजेडी विधायकों के साथ बैठक के बाद लालू ने कहा कि नीतीश कुमार ने तेजस्वी से इस्तीफा नहीं मांगा है. हमारे गठबंधन ने पांच साल के लिए सरकार बनाई है, इसे हम क्यों तोड़ेगे? Also Read - VIDEO: तेज-तेजस्वी की मुश्किलें बढ़ाएंगी लालू की बहू ऐश्वर्या! सीएम नीतीश का पैर छूकर लिया आशीर्वाद

बिहार में सत्ताधारी महागठबंधन में उपजे विवाद के बीच राष्ट्रीय जनता दल (राजद) और जनता दल (युनाइटेड) ने अलग-अलग विधानमंडल दल की बैठक बुलाई है. जहां नीतीश की मीटिंग शाम चार बजे होगी वहीं लालू प्रसाद यादव ने बुधवार दोपहर ही अपने सभी 80 विधायकों के साथ बैठक कर ली. बैठक में तय हुआ कि पुराने स्टैंड पर पार्टी कायम रहेगी. पिछली मीटिंग में आरजेडी ने तेजस्वी के इस्तीफे से साफ इंकार कर दिया था. Also Read - Bihar Assembly Election 2020: तेजस्वी की चाल में उलझा जदयू, 77 सीटों पर सीधा मुकाबला

वहीं, तेजस्वी यादव ने कहा कि मुझे कभी इस्तीफा देने को नहीं कहा गया. बीजेपी-आरएसएस हमारे गठबंधन को तोड़ना चाहता है. लोग इसे अच्छी तरह से देख सकते हैं. सुशील मोदी तो बिहारी भी नहीं हैं. वह बाहर के हैं. ऐसे लोग बिहार और यहां के लोगों का विकास नहीं देख सकते. Also Read - Bihar Assembly Election 2020: तेजस्वी की चुनौती- मेरे साथ अपनी किसी एक उपलब्धि पर बहस करें सीएम नीतीश

नहीं मांगा इस्तीफा

विधायकों के साथ मीटिंग के बाद लालू यादव ने कहा कि नीतीश ने तेजस्वी का इस्तीफा नहीं मांगा है और ना ही सफाई मांगी है. लालू ने कहा कि जहां भी उन्हें और तेजस्वी को अपनी बात रखनी होगी वहां रखेंगे. नीतीश महागठबंधन की सरकार के नेता हैं. लालू ने कहा कि हमने पांच साल के लिए सरकार बनाई है, भला सरकार क्यों गिराएंगे. नीतीश पर बीजेपी लार ना टपकाए.

इसी महीने नीतीश के सरकारी आवास पर जेडीयू के विधायक दल की बैठक बुलाई गई थी, जिसमें इस बात को लेकर मांग उठी थी कि तेजस्वी यादव जिनके ऊपर भ्रष्टाचार का आरोप लग रहे हैं, उन्हें अपने पद से इस्तीफा देना चाहिए. लेकिन नीतीश ने तेजस्वी को अपने ऊपर भ्रष्टाचार के लगे आरोपों का जनता के बीच में जवाब देने के लिए कहा था.

नीतीश भी करेंगे बैठक

जद (यू) के वरिष्ठ नेता और बिहार के संसदीय कार्य मंत्री श्रवण कुमार ने बताया कि जद (यू) विधानमंडल दल की बैठक बुधवार शाम पांच बजे बुलाई गई है, इस बैठक में पार्टी के विधायक और विधानपार्षद हिस्सा लेंगे. उन्होंने कहा कि विधानसभा के सत्र के पहले इस तरह की बैठक बुलाने की पुरानी परंपरा रही है. तेजस्वी के मसले को लेकर चर्चा के विषय में उन्होंने कोई जवाब नहीं दिया. सियासी हलकों में चर्चा है कि शुक्रवार को विधानसभा का सत्र शुरू होने से पहले मुख्यमंत्री नीतीश कुमार तेजस्वी को लेकर कोई बड़ा फैसला ले सकते हैं. लालू और नीतीश के बीच कई दिनों से बात भी नहीं हुई है.

बीजेपी की चेतावनी

महागठबंधन के दो दलों राजद और जद (यू) में उपमुख्यमंत्री तेजस्वी प्रसाद को लेकर चल रहे विवाद के बीच विपक्षी पार्टी भाजपा ने सदन नहीं चलने देने की चेतावनी दी है. बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कहा है कि तेजस्वी के मुद्दे को लेकर आगामी 28 जुलाई से शुरू होने वाले विधानमंडल सत्र को चलने नहीं दिया जाएगा.

क्या है पूरा मामला

सीबीआई ने लालू प्रसाद और बिहार के उपमुख्यमंत्री एवं उनके बेटे तेजस्वी यादव सहित उनके परिवार के सदस्यों के खिलाफ भ्रष्टाचार का मामला दर्ज किया है. सीबीआई ने सात जुलाई को पटना सहित देशभर के 12 स्थानों पर छापेमारी की थी। यह मामला वर्ष 2004 का है, जब लालू प्रसाद देश के रेल मंत्री थे. आरोप है कि उन्होंने रेलवे के दो होटल को एक निजी कंपनी को लीज पर दिलाया और इसके बदले में उन्हें पटना में तीन एकड़ जमीन दी गई.