पटना: बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने रविवार को कहा कि आयुष्मान भारत-प्रधानमंत्री जनआरोग्य योजना की समुचित निगरानी करनी पड़ेगी ताकि सही मायने में इलाज कराने वाले लोगों तक इसका फायदा पहुँच सके. मुख्यमंत्री ने कहा कि आज से लागू हुई केंद्र की आयुष्मान भारत योजना का लाभ बिहार सहित पूरे देश को मिलेगा. उन्होंने कहा कि उनकी एक ही अपेक्षा है कि इस योजना का कार्यान्वयन बेहतर तरीके से हो ताकि जरुरतमंदों तक इसका लाभ समय पर पहुंच सके.

पीएम मोदी ने आयुष्मान भारत का किया शुभारंभ, कहा-ये दुनिया की सबसे बड़ी हेल्थ स्कीम

नीतीश ने कहा कि उन्हें उम्मीद है कि पूरी पारदर्शिता के साथ इसका लाभ लोगों को मिलेगा. इसके लिए उपयुक्त निगरानी करनी पड़ेगी ताकि सही मायने में इलाज कराने वाले लोगों तक इसका फायदा पहुंच सके. नीतीश ने कहा कि गरीब परिवार जो पैसे इलाज में खर्च करते थे, अब उस पैसे का उपयोग अन्य कामों में करेंगे.

आयुष्मान भारत योजना: आप फ्री हेल्थ इंश्योरेंस के लिए एलिजिबल हैं या नहीं, यहां करें चेक

बिहार के राज्यपाल लालजी टंडन, केंद्रीय सूचना प्रौद्योगिकी एवं कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद, उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी, केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण राज्यमंत्री अश्विनी चौबे, केंद्रीय ग्रामीण विकास राज्यमंत्री रामकृपाल यादव की उपस्थिति में रविवार को सम्राट अशोक कन्वेंशन केंद्र स्थित ज्ञान भवन में आयुष्मान भारत-प्रधानमंत्री जनआरोग्य योजना का शुभारंभ करते हुए नीतीश ने इस योजना के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को बधाई दी. वहीं, झारखंड के रांची स्थित प्रभात तारा मैदान में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा आयुष्मान भारत योजना के शुभारंभ का लाइव प्रसारण पटना के ज्ञान भवन में राज्यपाल एवं मुख्यमंत्री सहित उपस्थित अतिथियों ने देखा.

आयुष्मान भारत योजना: गरीब परिवार को मिलेगा 5 लाख का बीमा, 50 करोड़ लोगों को होगा फायदा

आयुष्मान भारत-प्रधानमंत्री जनआरोग्य योजना के तहत बिहार के लगभग एक करोड़ आठ लाख परिवार को लाभ मिलेगा. इसमें ग्रामीण क्षेत्रों से 99,58,392 और शहरी क्षेत्रों से 8,65,916 परिवार शामिल हैं. इस योजना के लिए लाभार्थी परिवारों का चयन सामाजिक, आर्थिक एवं जातिगत जनगणना 2011 में निर्धारित पात्रता के आधार पर किया गया है. इसके तहत पांच लाख रुपए तक की सहायता सरकारी या निजी अस्पताल में इलाज कराने वाले मरीजों को मिलेगी.

आयुष्मान भारत योजना: 1350 से ज्यादा बीमारियों के इलाज की कीमत हुई तय