पटना: बिहार विधानसभा (Bihar Vidhansabha) में चल रहे बजट सत्र के तीसरे दिन एक दूसरे पर निशाना साधने के बीच हलके फुल्के लफ़्ज़ों में भी बातचीत हुई. लगातार निशाना साध रहे तेजस्वी यादव (Tejashwi Yadav) ने जब नहीं रुके तो नीतीश कुमार ने कहा कि जब आप छोटे थे, तब मेरी गोद में खेलते थे. आप नई पीढ़ी के नेता हैं, इसलिए मेरी बात सुननी ही चाहिए. Also Read - ढाई साल बाद पिता लालू को मिली जमानत तो भावुक हुए तेजस्वी, कहा-खुशी भी है और ये गम भी...

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने RJD नेता तेजस्वी यादव (Tejashwi Yadav) के बारे में एक हल्का पल साझा करते हुए कहा कि जब वह अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार के दौरान केंद्रीय मंत्री थे, तब तेजस्वी उनकी गोद में खेले थे. नीतीश कुमार (Nitish Kumar) ने बिजली आपूर्ति पर सदन को जवाब देते हुए यह भी कहा कि लालू प्रसाद (Lalu Prasad Yadav) और राबड़ी देवी के 15 साल के कार्यकाल के दौरान राज्य में बिजली की स्थिति सबसे खराब स्तर पर थी. Also Read - Bihar में क्‍या सख्‍ती बढ़ेगी? CM नीतीश कुमार ने सीनियर अफसरों, डीएम, एसपी की बुलाई हाई लेविल मीटिंग

इस पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए तेजस्वी ने कहा कि जब राजद (RJD) सत्ता में थी, तब नीतीश कुमार अटल बिहारी वाजपेयी सरकार में केंद्रीय मंत्री थे, उन्होंने कहा कि बिहार में बिजली के बुनियादी ढांचे में सुधार के लिए उन्होंने केंद्र पर दबाव क्यों नहीं बनाया. Also Read - New Covid-19 Restrictions in Bihar: बिहार में 18 अप्रैल तक स्कूल बंद, नाइट कर्फ्यू पर अभी फैसला नहीं

नीतीश ने कहा, “जब मैं केंद्र में मंत्री था, आपने मेरी गोद में खेला था. आप एक युवा पीढ़ी के नेता हैं और आपको हमारी बात सुननी चाहिए. वर्तमान में, ग्रामीण स्तर पर हर घर में बिजली पहुंचती है. बिजली का औसत चार्ज प्रति यूनिट बिहार में 4.5 रुपये है, जबकि यह कृषि कार्य के लिए सिर्फ 65 पैसे प्रति यूनिट की दर से उपलब्ध है.”

मुख्यमंत्री ने कहा, “हमें बिहार में कई स्थानों से अत्यधिक बिजली बिलों के बारे में शिकायतें मिली हैं. यह देखा गया है कि एक झोपड़ी में रहने वाले और सिर्फ एक बल्ब रखने वाले व्यक्ति को 14,000 रुपये का बिल मिला है. इसलिए, हमने राज्य में गलत कामों को रोकने के लिए प्रीपेड बिजली मीटर पेश किए हैं. अब कोई भी अपने उपयोग के अनुसार बिजली प्राप्त करने के लिए प्रीपेड मीटर को रिचार्ज कर सकता है. इस विचार को केंद्र द्वारा भी समर्थन किया गया था. हमने अब तक 1.34 लाख प्रीपेड मीटर लगाए हैं और राज्य में अधिक मीटर लगाए जा रहे हैं.” उन्होंने कहा, ” हम बिहार में बुनियादी ढांचे में सुधार के लिए हर क्षेत्र में काम कर रहे हैं.”