पटना: बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) ने देश में जाति जनगणना (Cast Census) को लेकर बड़ा बयान दिया है. नीतीश कुमार ने कहा कि अगर पूरे देश के लिए जातीय जनगणना का निर्णय नहीं होता है तो इस पर राज्य में अलग से करवाने पर विचार किया जाएगा. अगर केन्द्र सरकार जातीय जनगणना के लिये तैयार नहीं हुई तो क्या बिहार सरकार जातीय जनगणना खुद से कराएगी पूछे जाने पर मुख्यमंत्री ने कहा- हम लोगों ने पहले भी कहा है कि अगर पूरे देश के लिए जातीय जनगणना का निर्णय नहीं होता है तो इस पर विचार किया जाएगा.Also Read - शख्स ने फोन पर पूछा- अब तुम कितने साल के हो, PM Modi ने दिया चौंकाने वाला जवाब

पत्रकारों द्वारा जातीय जनगणना को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात के संबंध में पूछे गए सवाल का जवाब देते हुए मुख्यमंत्री ने कहा, रविवार की शाम हम लोग दिल्ली जाएंगे. 23 अगस्त को 11 बजे दिन में प्रधानमंत्री से मुलाकात का समय तय है. प्रधानमंत्री से मुलाकात के लिये बिहार से जाने वाले प्रतिनिधिमंडल की सूची पहले ही भेज दी गयी है. मेरे साथ 10 पार्टियों के नेता दिल्ली जा रहे हैं. मुख्यमंत्री ने जोर देते हुए कहा कि जातिगत जनगणना होनी चाहिये, इसी पर हम लोग अपनी बात रखेंगे. यह केन्द्र सरकार के ऊपर निर्भर है कि वो क्या निर्णय लेती है. हालांकि उन्होंने उम्मीद जताते हुए कहा कि प्रधानमंत्री इस पर सकारात्मक रूख अपनाएंगें. Also Read - बिहार सीएम नीतीश ने की टीकाकरण महाअभियान की शुरूआत, खुद लिखकर दी पीएम को जन्मदिन की बधाई

मुख्यमंत्री ने कहा कि पहले से ही हम लोग इसकी चर्चा करते रहे हैं. सभी दल के लोगों ने इस पर सहमति भी जताई है. विधानमंडल में भी इस पर चर्चा हुई है. पत्रकारों द्वारा अगर केन्द्र सरकार जातीय जनगणना के लिये तैयार नहीं हुई तो क्या बिहार सरकार जातीय जनगणना खुद से कराएगी पूछे जाने पर मुख्यमंत्री ने कहा, हम लोगों ने पहले भी कहा है कि अगर पूरे देश के लिए जातीय जनगणना का निर्णय नहीं होता है तो इस पर विचार किया जाएगा. उत्तर प्रदेश में जदयू के चुनाव लड़ने की तैयारी के सवाल पर मुख्यमंत्री ने कहा कि यह आगे की बात है. उसके लिये हमारी पार्टी के लोग बातचीत करेंगे. Also Read - जन्मदिन विशेष: राजनीति के शीर्ष पर कई वर्षों से काबिज हैं PM नरेंद्र मोदी, जानें 2001 में कैसे राजनीति की हुई थी शुरुआत