पटना. बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने सार्वजनिक मंच से पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) गुप्तेश्वर पांडेय को सुर्खियों में रहने के बजाए राज्य की कानून व्यवस्था की स्थिति पर ध्यान देने का सुझाव दिया है. पटना के अधिवेशन भवन में बुधवार को 3226.50 करोड़ रुपए की सात विभिन्न योजनाओं का उद्घाटन, लोकार्पण, शिलान्यास एवं कार्यारंभ करते हुए नीतीश ने कहा कि मीडिया में वारदात और दुर्घटनाओं के बारे में जो बातें हैं उसे देखना पुलिस का काम है, हमलोग तो उसके बारे में पुलिस बल को और यहां बैठे वरीय पदाधिकारियों से पूछ और कह सकते हैं कि ऐसे करिए.

लालू प्रसाद यादव का शायराना अंदाज, विरोधियों पर साधा निशाना तो जेडीयू ने भी किया पलटवार

उन्होंने कार्यक्रम को पुलिस महानिदेशक द्वारा संबोधित किए जाने की ओर इशारा करते हुए कहा,‘‘मीडिया वाले आपको बढ़िया पब्लिसिटी दे रहे हैं लेकिन काम में कमी आएगी तो चार पांच महीने के बाद वे आपको ध्वस्त कर देंगे. अगर मीडिया आपको फ्रंट पेज पर लाया तो पक्का जानिए कि आप अंदर जाने वाले हैं.’’ उन्होंने कहा कि अच्छे काम को कोई कैसे नजर अंदाज कर सकता है. हम यही कहेंगे कि ताली बजवाने से अच्छा है कि गंभीरतापूर्वक अमल करना और काम करना. हमारी यही अपेक्षा है.

नीतीश ने अपने बारे में कहा कि वे इसलिए हाथ जोड़े रहते हैं कि हमको पब्लिसिटी नहीं चाहिए. आज पब्लिसिटी मिलेगी तो कल तो नष्ट होना ही होना है. पक्का नष्ट हो जाइएगा. उन्होंने बेली रोड की घटना का जिक्र करते हुए कहा,‘‘बताइए गजब हालात हो गए हैं. कल मैं जब रात को इनकम टैक्स गोलंबर की तरफ से लौट रहा था तो एक कार रॉन्ग साइड से घुस गई. यह सब देखना तो आप लोगों का ही काम है. हम तो सिर्फ सलाह ही दे सकते हैं. करना तो आप लोगों को ही है. नहीं तो वहीं मीडिया आपकी पोल खोल देगी.’’ इस अवसर पर उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी, राज्य के मंत्री नंद किशोर यादव और विजेंद्र प्रसाद यादव और मुख्य सचिव दीपक कुमार उपस्थित थे.

(इनपुट – एजेंसी)