पटना: बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने शुक्रवार को अधिकारियों को निर्देश दिया कि राज्य में पृथक-वास में 21 दिन पूरा कर चुके प्रत्येक व्यक्ति को यात्रा का पूरा खर्च और पांच सौ रुपये या न्यूनतम एक हजार रुपये की अतिरिक्त सहायता देने के लिए पहले से तैयारी की जाए. Also Read - नीतीश राज को लालू यादव ने किया परिभाषित, इन 18 नामों के जरिए की शासन की व्याख्या

एक आधिकारिक वक्तव्य के अनुसार, कुमार ने अधिकारियों से कहा कि बाहर से आए लोग जो राज्य में 21 दिन के अनिवार्य पृथक-वास में रह रहे हैं, उनके खाते में सीधे पैसा जमा कराया जाए. Also Read - बिहार में 30 जून तक बढ़ाया गया लॉकडाउन, केंद्र के दिशानिर्देश को लागू करेगी सरकार

राज्य में कोविड-19 का संक्रमण फैलने से रोकने के लिए उठाए गए कदमों की समीक्षा के लिए की गई उच्च स्तरीय बैठक के दौरान मुख्यमंत्री ने यह आदेश दिया. Also Read - 54 जिलों से हैं 50% प्रवासी, 44 यूपी-बिहार के ही, PM मोदी का वाराणसी, योगी का गोरखपुर, अखिलेश का इटावा लिस्ट में

अन्य राज्यों से प्रवासी श्रमिकों को जल्दी से जल्दी राज्य में लाने के लिए मुख्य सचिव दीपक कुमार को निर्देश देते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि अधिकांश लोग कोरोना वायरस संक्रमण से अधिक प्रभावित स्थानों से आ रहे हैं इसलिए श्रमिकों को लाने में जितनी देर की जाएगी, संक्रमण का खतरा उतना बढ़ेगा.

(इनपुट भाषा)