नई दिल्लीः बिहार की राजधानी पटना के लोगों को अभी तीन पूर्व हुई बारिश के पानी से राहत नहीं मिली थी कि एक बार फिर से भारी बारिश के बादल मडराने लगे हैं. मौसम विभाग ने पटना सहित चार अन्य जिलों में बारिश को लेकर अलर्ट जारी किया है. लगातार भारी बारिश से पटना के कई क्षेत्रों में पानी का भराव हो गया था जिसे निकालने के लिए राहत टीमें लगातार जुटी हुई हैं. आपको बता दें कि अभी तक केवल पटना में अभी तक बारिश से 42 लोगों की मौत हो चुकी है.

पटना मौसम विज्ञान केंद्र के एक अधिकारी ने बताया कि राजधानी पटना समेत मध्य बिहार में भारी बारिश की चेतावनी जारी की गई है. बिहार के पटना, बेगूसराय, खगड़िया और वैशाली में गुरुवार और शुक्रवार को भारी बारिश होने को लेकर अलर्ट जारी किया है. इस बीच पटना जिला प्रशासन ने शुक्रवार तक के लिए पटना के सभी निजी और सरकारी स्कूलों को बंद रखने का आदेश दिया है.

Bihar Flood: जब फूट-फूट कर रोया रिक्शा चालक, बॉलीवुड एक्टर्स भी शेयर कर रहे ये ह्रदयविदारक वीडियो

इधर, राज्य के आपदा प्रबंधन मंत्री लक्ष्मेश्वर राय ने बताया कि अत्याधिक बारिश के कारण अबक 42 लोगों के मारे जाने और नौ लोगों के घायल होने की सूचना है. उन्होंने कहा कि बीते दिनों तीन दिन तक हुए भारी बारिश के बाद पटना के जलमग्न इलाकों से पानी निकालने का कार्य लगातार जारी है. उन्होंने दावा करते हुए कहा कि पटना के अधिकांश इलाकों से पानी निकाल दिया गया है, राजेंद्र नगर के कई इलाकों में अभी भी पानी जमा है.

बिहार की बाढ़ में मॉडल के फोटोशूट से मचा बवाल, पानी में अदाओं पर जमकर ट्रोल, PHOTOS

दूसरी तरफ लोग क्षेत्रों में भरे पानी के सड़ने से लोग संक्रामक बीमारियों से भी डरे हुए हैं. जानकारी के अनुसार जमा पानी अब काला पड़ने लगा है और उसमें से गंध भी आ रही है इससे इलाकों में बीमारी फैलने की आशंका बन गई है. हालांकि सरकार भी बीमारियों को लेकर सचेत दिख रही है. स्वास्थ्य विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि राजधानी के हर इलाके में जलजमाव से होने वाली बीमारियों के मद्देनजर पटना जिले के सभी डॉक्टरों की छुट्टियां रद्द कर दी गई हैं. जिन अस्पतालों में जलजमाव के कारण मरीज नहीं पहुंच पा रहे थे, उन्हें वैकल्पिक जगहों पर शुरू किया गया है और सभी अस्पतालों को अलर्ट पर रहने के लिए कहा गया है.