पटना: प्रदेश में एक्यूट इंसेफेलाइटिस सिंड्रोम (एईएस) के कारण बडी संख्या में बच्चों की मौत के लिए विपक्षी दलों ने स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय को जिम्मेदार ठहराते हुए मंगलवार को उनके इस्तीफे की मांग की और हंगामा किया, जिसके बाद बिहार विधानसभा की कार्यवाही अपराह्न दो बजे तक के लिए स्थगित कर दी गई. बिहार विधानसभा की कार्यवाही प्रारंभ होने के पूर्व सदन के बाहर भाकपा-माले के विधायकों ने बैनर-पोस्टर लेकर जमकर हंगामा किया और नारेबाजी की. इसके बाद जब सदन की कार्यवाही प्रारंभ हुई तब सदन के अंदर राजद के सदस्यों ने भारी हंगामा शुरू कर दिया. बता दें कि तीन दिनों से लगातार विपक्ष स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री मंगल पांडेय के इस्‍तीफे पर अड़ा हुआ है.

सोनिया गांधी का सरकार पर आरोप: रेलवे की बहुमूल्य संपत्तियों को कौड़ियों के दाम बेचा जा रहा

बता दें कि एईएस के मुद्दे पर सोमवार को सदन में स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय और खुद मुख्यमंत्री नीतीश कुमार सरकार की ओर से जवाब दे चुके हैं. बिहार के मंत्री और भाजपा के नेता नंदकिशोर यादव ने कहा कि राजद बच्चों की मौत पर राजनीति कर रही है. बच्चों की मौत का सभी लोगों को दुख है. राजद के विधायक भाई वीरेंद्र ने कहा कि स्वास्थ्य मंत्री के कारण राज्य की कई मांओं की गोद सुनी हुई हैं. ऐसे में उनका मंत्रिमंडल में बने रहना सही नहीं है.

बिहार विधानसभा की मंगलवार की कार्यवाही शुरू होते ही आरजेडी विधायक ललित यादव ने एईएस के कारण मुजफ्फरपुर और राज्य के अन्य हिस्सों में बडी संख्या में बच्चों की मौत के लिए स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय को जिम्मेदार ठहराया और उनके इस्तीफे की मांग की.

बिहार विधानसभा अध्यक्ष विजय कुमार चौधरी ने विपक्षी नेताओं से कहा कि सोमवार को सदन में इस गंभीर मुद्दे पर बहस हो चुकी है और राज्य सरकार ने इस मुद्दे पर जवाब दिया था, ऐसे में इस मामले को फिर से न उठाकर प्रश्नकाल के सामान्य कामकाज को पूरा करने दें, पर विपक्षी सदस्य नहीं माने और वे आसन के पास आकर नारेबाजी करने लगे.

संसदीय कार्य मंत्री श्रवण कुमार ने कहा कि स्वास्थ्य मंत्री और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने सोमवार को इस मुद्दे पर बहस के बाद जवाब दिया था. उन्होंने आरोप लगाया कि विपक्ष सदन की कार्यवाही को बाधित करना चाहता है और सार्वजनिक महत्व के मुद्दों को उठाने नहीं देना चाहते हैं.

विपक्षी सदस्यों के हंगामे के बीच अध्यक्ष के प्रश्नकाल को आगे बढ़ाने का प्रयास किया और भाजपा सदस्य संजय सरोगी के प्रश्न का शिक्षा मंत्री कृष्णनंदन प्रसाद वर्मा ने जवाब भी दिया पर विपक्ष के करीब 15 मिनट तक हंगामा जारी रखे जाने पर अध्यक्ष ने सदन को भोजनावकाश तक स्थगित कर दी.