पटना/नई दिल्ली। प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने आईआरसीटीसी होटल धनशोधन मामले में आज 44.75 करोड़ रुपए कीमत की 11 जमीनें जब्त कर लीं. इनमें वह जमीन भी शामिल है जिसमें लालू परिवार का मॉल बन रहा था और इसे लेकर खासा विवाद हुआ था. इसे लेकर विपक्ष ने लालू और उनके परिवार पर घोटाले का आरोप लगाया था. ईडी ने आरजेडी प्रमुख लालू प्रसाद के परिवार से जुड़ी एक कंपनी के नाम पर दर्ज इन जमीनों को कुर्क किया. हाल में धनशोधन रोकथाम कानून (पीएमएलए) से जुड़े मामलों की सुनवाई करने वाले एक प्राधिकारी ने ईडी को जब्त संपत्तियां अपने कब्जे में लेने की इजाजत दी थी.

पीएमएलए के तहत कार्रवाई

अधिकारियों ने कहा कि पटना के दानापुर इलाके में करीब तीन एकड़ क्षेत्रफल में एक-दूसरे से सटी हुई इन जमीनों पर एक बड़ा नोटिस बोर्ड लगाया गया और कब्जे के दस्तावेजों को अधिसूचित किया गया. नोटिस बोर्ड पर दिल्ली जोनल ऑफिस -1 के सहायक निदेशक के दस्तखत हैं. उन्होंने बताया कि पीएमएलए की धारा -8 के तहत यह कार्रवाई की गई है.

केंद्रीय जांच एजेंसी ने आईआरसीटीसी होटल आवंटन मामले में पिछले साल दिसंबर में पीएमएलए के तहत 44.75 करोड़ रुपए (बाजार दर) की जमीनें अस्थायी तौर पर कुर्क की थी. प्राधिकारी ने अपने हालिया आदेश में कहा था कि यह संपत्तियां धनशोधन में शामिल थीं. इस मामले में सीबीआई ने लालू के कई ठिकानों पर पिछले साल छापेमारी भी की थी.

लालू पर शिकंजाः 12 ठिकानों पर रेड के बाद बिहार में अलर्ट, CBI ने की प्रेस कॉन्फ्रेंस

यह जमीनें डिलाइट मार्केटिंग कंपनी प्राइवेट लिमिटेड (अब लारा प्रोजेक्ट्स एलएलपी), जिसके प्रबंध साझेदार लालू की पत्नी राबड़ी देवी और साझेदारों के रूप में तेजस्वी यादव और तेज प्रताप यादव और आरजेडी के विधायक अबु दुजाना की कंपनी मेरीडियन कंस्ट्रक्शन इंडिया लिमिटेड के नाम पर हैं.