Patna in Under Lockdown: देश में करोना वायरस (Coronavirus) लगातार तेज गति से बढ़ रहा है. अब तक पूरे देश में साढ़े नौ लाख से अधिक लोग कोरोना वायरस की चपेट में आ चुके हैं. कोरोना के तेजी से बढ़ते प्रकोप ने राज्य सरकारों की चिंताए बढ़ा दी हैं. माना जा रहा था कि समय बीतने के साथ साथ कोरोना का प्रभाव कम होगा लेकिन समय के साथ कोरोना और अधिक गति से लोगों को अपने आगोश में ले रहा है. पिछले 24 घंटे में देश में 32 हजार से अधिक लोग कोरोना से संक्रमित हुए हैं. वहीं अगर बिहार (Bihar Corona Status) राज्य की बात करें तो अब यहां कोरोना पॉजिटिव लोगों की संख्या 20 हजार के नंबर को पार कर चुकी है. Also Read - फिलहाल बंद रहेंगे स्कूल, अभिभावकों की ली जाएगी राय; शिक्षा मंत्री बोले- गृह मंत्रालय की गाइडलाइंस के अनुसार निर्णय लेंगे

Patna again in Under complete Lockdown Also Read - अमित शाह की कोई ताजा कोविड-19 जांच नहीं की गई, मनोज तिवारी ने डिलीट किया अपना ट्वीट

कोरोना की मार पड़ने की वजह से राज्य सरकारें एक बार फिर से लॉकडाउन (Lockdown in Patna) की तरफ बढ़ रही हैं. कोविड19 के बढ़ते मामलों के बीच बिहार में 31 जुलाई तक लॉकडाउन लगा दिया गया है. इस बार लॉडाउन पहले जैसा नहीं होगा. राजधानी पटना में भी अब 15 दिनों तक पूर्ण रूप से लॉकडाउन लागू हो गया है. Also Read - Coronavirus Cases In India: कोरोना से 24 घंटे में 861 लोगों ने गंवाई जान, 64 हजार से अधिक संक्रमित

बिहार में आज सुबह से ही लॉकडाउन लगाया गया है जिसके बाद से पूरे पटना में एक बार फिर से सड़कें और हाइवे और गलियां सूनी हो गई हैं. राजधानी पटना में बाजार पूरे तरह से बंद रहेंगे लेकिन इस दौरान जरूरी सेवाएं जैसे मेडिकल स्टोर, बैंक आदि पहले जैसे ही चालू रहेंगी.

राज्य सरकार राजधानी पटना सहित कंटेनमेंट जोन में विशेष ध्यान दे रही हैं. कंटेनमेंट जोन में जरूरी सेवाओं के अलावा किसी तरह की छूट नहीं दी जाएगी. पूरे राज्य में सभी धार्मिक स्थल बंद रहेगें. बता दें कि लॉकडाउन के दौरान पटना के कुल 114 इलाकों में गाड़यों के संचालन में पूरी तरह से रोक लगाई गई है.

बता दें कि सीएम नितीश कुमार ने लॉकडाउन का सख्ती से पालन करने के निर्देश दिए हैं. लॉकडाउन के दौरान यात्रा करने या शहर में एक स्थान से दूसरे स्थान पर जाने के लिए ई पास की जरूरत नहीं होगी. पुलिस के रोके जाने पर यात्री को घर से बाहर निकलने का कारण बताना होगा और अपना पहचना पत्र दिखाना होगा. पहचान पत्र ही ईपास की तरह काम करेगा. यह पुलिस पर निर्धारित करेगा कि व्यक्ति ने जो काम बताया है वह जूरूरी है या नहीं इसके बाद ही उसे बाहर जाने की इजाजत दी जाएगी.