पटना: केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा इलाहाबाद का नामकरण प्रयागराज किए जाने को सही ठहराते हुए इसी तर्ज पर बिहार के कुछ शहरों का भी नाम बदले जाने की मांग सोमवार को उठाई. सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्योग मंत्री ने यहां संवाददाताओं से बातचीत में कहा कि ‘योगी जी ने यह कदम (इलाहाबाद का नामकरण प्रयागराज करने का) अच्छा उठाया है. वह धन्यवाद के पात्र हैं.’ उन्होंने कहा, ‘मैं आपसे पूछता हूं कि आपके घर पर कोई कब्जा कर ले और जब आप सामर्थ्यवान होंगे तो क्या अपने घर का नाम उसी का रहने देंगे.’Also Read - Aaj Ka Panchang, 17 October, 2021: तुला राशि में आज गोचर करेंगे भगवान सूर्य, जानें राहुकाल का समय, पढ़ें पंचांग

Also Read - Horoscope Today 17 October 2021 (Aaj Ka Rashifal) आज का राशिफल: भावनाओं को नियंत्रण रखें मेष राशि के लोग, जानें अपनी राशि का हाल

अक्टूबर शुरू होते ही पड़ी महंगाई की मार, पेट्रोल-डीजल से लेकर सीएनजी तक के बढ़े दाम Also Read - बिहार- यूपी से गए थे कश्‍मीर परिवार को गरीबी से निकालने, आतंकियों ने छीन लीं सांसें, घरों में पसरा मातम

केंद्रीय मंत्री ने कहा, ‘मैं तो मांग करूंगा कि पूरे देश में… बिहार में भी जो नाम मुगलों के नाम से जुड़ा है, उन नामों को हटाया जाना चाहिए. जिसका एक उदाहरण बख्तिायरपुर है.’ बिहार की राजधानी पटना के बाहरी इलाके में स्थित बख्तियारपुर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का जन्मस्थान है. गिरिराज सिंह ने कहा, ‘भारत में कोई भी मुगलों का वंशज नहीं है. सभी राम के वंशज और भारतीय हैं.’ बिहार में भाजपा के साथ सत्ता में शामिल जदयू के प्रवक्ता संजय सिंह ने कहा कि यह देश हिंदू, मुसलमान, सिख और ईसाई सभी का है. कुछ लोग बयानबाजी कर देश और समाज को बांटना चाहते हैं. ऐसे लोगों से देश सजग है.

विपक्ष का भारत बंद: मोदी सरकार ने कहा- तेल के दाम कम करना हमारे हाथ में नहीं

उन्होंने गिरिराज सिंह को बड़ा भाई बताते हुए उन्हें बख्तिायरपुर का इतिहास जानने का सुझाव दिया और कहा कि उसके बाद नाम बदलने की बात करें. संजय ने कहा कि जहां तक गिरिराज सिंह का सवाल है, वह केंद्र में मंत्री हैं. उन्हें देश में मंहगाई, किसानों की समस्या और बेरोजगारी की बात करनी चाहिए. राजद प्रवक्ता भाई वीरेंद्र ने गिरिराज के बयान पर प्रतिक्रिया में कहा कि यह मुगलों की धरती नहीं बल्कि राम—रहीम की धरती है तथा सभी उन्हीं के वंशज हैं. उन्होंने केंद्रीय मंत्री पर आगामी लोकसभा चुनाव के मद्देनजर इस तरह का विवादित बयान देने का आरोप लगाते हुए कहा कि ऐसे लोग देश को बांटना चाहते हैं.