PM Kisan Samman Nidhi Yojana News: पीएम नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को पीएम किसान सम्मान निधि की आठवीं किस्त किसानों के खाते में भेज दी है. वहीं बिहार भोजपुर जिले में प्रधानमंत्री किसान सम्मान योजना में फर्जीवाड़ा का खुलासा हुआ है. इस योजना के अंतर्गत भोजपुर जिले के 1 लाख 71 हजार 743 पीएम किसान योजना के लाभार्थियों में से 3000 फर्जी किसानों को चिन्हित किया गया है.  ये सभी फर्जी तरीक से पीएम किसान योजना का लाभ लेते हुए योजना के पैसे ले रहे थे. अब ऐसे किसानों को केंद्र सरकार ने योजना की ली गई राशि लौटाने का सख्त निर्देश दिया है. Also Read - Bihar: JDU की नई प्रदेश कार्यकारिणी गठित, लिस्‍ट में 33 फीसदी महिलाओं को मिली हिस्‍सेदारी

व्यवसायी और रोजगार से जुड़े लोग फर्जी किसान बनकर ले रहे थे फायदा Also Read - UP के कई जिलों में बाढ़ के खतरे का हाई अलर्ट, प्रयागराज, पटना में गंगा का जलस्‍तर बढ़ा

जानकारी मिली है कि भोजपुर जिले में लाखों रुपए का इनकम टैक्स देने वाले व्यापारी और अन्य रोजगार से जुड़े व्यक्ति भी किसान बनकर प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना का लाभ उठा रहे थे. इस बात का खुलासा तब हुआ जब जिले में सभी किसान सम्मान निधि योजना से जुड़े लोगों की जांच पड़ताल की गई. फर्जी किसानों के इनकम टैक्स रिटर्न की जांच पड़ताल के बाद भारत सरकार के कृषि विभाग ने प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना में फर्जीवाड़े का खुलासा किया है. Also Read - पार्टी के बागी नेताओं को चिराग पासवान की चुनौती- 'शेर का बेटा हूं, लड़ाई जारी रहेगी'

3 हजार फर्जी किसानों से योजना की राशि वसूलने की कार्रवाई शुरू
भारत सरकार के कृषि विभाग के खुलासे के बाद भोजपुर जिले के ऐसे 3000 किसानों से राशि वसूली करने की कार्रवाई शुरू की गई है, जो योजना का लाभ उठा रहे थे. भोजपुर जिले में 3000 फर्जी किसानों ने प्रधानमंत्री किसान सम्मान योजना के तहत 12 हजार और 6 हजार रुपए तक का लाभ लिया है, जिन्हें भारत सरकार के कृषि विभाग के सख्ती के बाद राशि लौटानी पड़ेगी. सूचना के बाद भी राशि नहीं लौटाने वालों के खिलाफ कृषि विभाग प्राथमिकी दर्ज करने की कार्रवाई करेगा.

इस मामले पर जिला कृषि पदाधिकारी मनोज कुमार ने एक वेबसाइट को बताया कि आयकर विभाग की जांच में फर्जी किसानों के फर्जीवाड़े की जानकारी मिली है. उन्होंने कहा कि गलत तरीके से किसान बनकर जिन लोगों ने इस योजना में पैसे लिए हैं, उनसे राशि लौटाने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है और जल्द ही उसे रिकवर किया जाएगा.