पटना: बिहार में कानून-व्‍यवस्‍था की हालत से सभी वाकिफ हैं. ज्‍यादा दिन नहीं हुए जब राज्‍य के उपमुख्‍यमंत्री सुशील कुमार मोदी का एक वीडियो वायरल हुआ था जिसमें वे अपराधियों से पितृपक्ष के दौरान अपराध नहीं करने की अपील करते दिख रहे थे. सोमवार को सोशल मीडिया पर एक और वीडियो वायरल हुआ. ताज्‍जुब की बात यह कि इसका संबंध भी बिहार के लॉ एंड ऑर्डर से ही था. Also Read - बिहार में एक बार फिर आकाशीय बिजली ने मचाई तबाही, 20 लोगों की मौत, सरकार देगी मुआवजा

Also Read - Coronavirus in Bihar: 24 घंटे में बिहार में कोरोना के 349 नए मामले, वायरस से अब तक 11 हजार 456 लोग संक्रमित

दरअसल, सोमवार को राजधानी पटना में पुलिस अधिकारियों की एक मीटिंग थी. इसमें उन्‍हें दुर्गा पूजा के दौरान लॉ एंड ऑर्डर की चाक-चौबंद व्‍यवस्‍था के लिए ब्रीफिंग दी गई. आश्‍चर्य यह कि मीटिंग में पहुंचे अधिकांश अधिकारियों की ब्रीफिंग में कोइ्र रुचि नहीं थी. आधे से ज्‍यादा अधिकारी मीटिंग के दौरान सोए नजर आए. वीडियो में स्‍पष्‍ट दिख रहा है कि जो नहीं सो रहे थे, वे भी हाथ मलते हुए या किसी अन्‍य गतिविधि में व्‍यस्‍त थे. मीटिंग में किसी की रत्‍ती भी रुचि नहीं थी. Also Read - बिहार में फिर टूटा आसमानी बिजली का कहर, 15 लोगों की मौत

बिहार: मुठभेड़ में चलीं 100 राउंड गोलियां, इंस्पेक्टर आशीष कुमार शहीद, एक बदमाश ढेर

जब लॉ एंड ऑर्डर के लिए होने वाली मीटिंग में अधिकारी ऑर्डर और डिकोरम का पालन नहीं कर पाएं तो मीटिंग के असर का अंदाजा लगाया जा सकता है. कानून-व्‍यवस्‍था के नाम पर होने वाली ऐसी मीटिंग्‍स का ही नतीजा है कि राज्‍य में अपहरण और महिलाओें के खिलाफ होने वाले अपराध तेजी से बढ़ रहे हें. पुलिस वाले हैं कि उन्‍हें सोने से ही फुर्सत नहीं मिलती.