पटनाः पुनपुन नदी लगातार खतरे के निशान के ऊपर बह रही है और मूसलाधार बारिश के कारण बाढ़ का खतरा पटना देहात जिले में बढ़ गया है . बारिश के कारण पिछले हफ्ते प्रदेश में कम से कम 73 लोगों की मौत हो गई थी. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने शुक्रवार को बारिश प्रभावित जिलों अरवल, जहानाबाद और पटना का हवाई सर्वेक्षण किया और जमीनी स्थिति की समीक्षा की.

देश में मानसूनी बारिश और बाढ़ से करीब 1,900 लोगों ने गवाई जान, इस राज्य में हुईं सबसे ज्यादा मौतें

सरकार की तरफ से आज यहां जारी बयान में कहा गया है कि मुख्यमंत्री के साथ जल संसाधन मंत्री संजय झा, मुख्य सचिव दीपक कुमार और अन्य मौजूद थे . जल संसाधन विभाग ने बताया कि पुनपुन नदी में इस मानसून सत्र में जलस्तर बढ़ कर शुक्रवार को पटना के श्रीपालपुर के निकट 53.61 मीटर हो गया जो खतरे के निशान से तीन मीटर से कुछ अधिक है . खतरे का निशान 50.60 मीटर है.

Bihar Flood: जब फूट-फूट कर रोया रिक्शा चालक, बॉलीवुड एक्टर्स भी शेयर कर रहे ये ह्रदयविदारक वीडियो

जल संसाधन विभाग ने बताया कि पुनपुन नदी में जल स्तर 1976 में रिकार्ड किये गए सर्वाधिक जलस्तर 53.91 मीटर से थोड़ा कम है . इस बीच राज्य सरकार ने उच्च क्षमता वाले पंप, कोल इंडिया लिमिटेड, एनटीपीसी और कल्याण सीमेंट से मांगे हैं जिन्हें पटना के सबसे अधिक प्रभावित इलाके से जल निकासी के कार्य में लगाया गया है.