नई दिल्ली: राज्य सरकार से सिफारिश मिलने पर मुजफ्फरपुर यौन शोषण मामले की सीबीआई जांच कराने पर विचार किया जा सकता है. ये बात मंगलवार को केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने संसद में कही है. दरअसल, बिहार के मुजफ्फरपुर स्थित नारी निकेतन में लड़कियों के यौन शोषण और बलात्कार का मुद्दा मंगलवार को लोकसभा में जोरदार ढंग से उठा और गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि राज्य सरकार की सिफारिश प्राप्त होने पर इस मामले की सीबीआई जांच कराने पर विचार किया जाएगा. गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा, ”जिस विषय को उठाया गया है, वह अत्यंत गंभीर मुद्दा है. राज्य सरकार से सिफारिश आने पर इस मामले की सीबीआई जांच कराने पर विचार किया जाएगा.

नारी निकेतन में लड़कियों से रेप, 40 में अधिकतर से यौन संबंधों की पुष्टि, राबड़ी बोलीं- बिहार शर्मसार

शून्यकाल के दौरान सदन में कांग्रेस की रंजीत रंजन ने इस विषय को उठाते हुए कहा कि यह एक गंभीर घटना है. मुजफ्फरपुर स्थित बालिका सुधार गृह में ऐसी घटना घटी . कई बालिकाओं के साथ बलात्कार की घटना घटी, इसमें एक सात वर्षीया बालिका के साथ भी दुष्कर्म होने की बात सामने आ रही है. उन्होंने कहा कि इस मामले में 13 संस्थाओं पर आरोप लगे हैं. इनमें सफेदपोश लोग भी शामिल हैं.

रंजीत रंजन ने कहा कि सुधार गृह में गरीब घरों की बालिकाओं का शारीरिक शोषण और बलात्कार हुआ है, ऐसा जघन्य अपराध हुआ है. उन्होंने कहा कि इस मामले की जांच अदालत की निगरानी में सीबीआई से करायी जानी चाहिए और बच्चियों की सुरक्षा सुनिश्चित की जानी चाहिए .

आरजेडी सांसद जय प्रकाश नारायण यादव ने कहा कि मुजफ्फरपुर के बाल सुधार गृह में 14 से 30 साल की बालिकाओं के साथ दुष्कर्म का जघन्य मामला सामने आया है. इसमें रसूखदार लोगों का संरक्षण प्राप्त है. इस मामले में सख्त कार्रवाई किए जाने की जरूरत है.

मामले को लेकर बिहार विधानसभा में हंगामा
बिहार के मुजफ्फरपुर स्थित नारी निकेतन में लड़कियों के यौन शोषण और बलात्कार के मामले को लेकर मंगलवार को भी बिहार विधानसभा में विपक्षी सदस्यों ने जमकर हंगामा किया. विपक्ष पूरे मामले की जांच सीबीआई से कराने की मांग कर रहा है. बिहार विधानसभा की कार्यवाही प्रारंभ होने के बाद अध्यक्ष विजय कुमार चौधरी ने प्रश्नकाल प्रारंभ करने की घोषणा की, परंतु विपक्षी सदस्य हंगामा करने लगे. विपक्ष के नेता तेजस्वी प्रसाद यादव ने मुजफ्फरपुर महिला अल्पावास गृह के मामले को सबसे अधिक गंभीर मामला बताते हुए कहा कि प्रशासन इस मामले में कोई कार्रवाई नहीं कर पा रहा है.

आश्रय गृह में लड़कियों का यौन शोषण, बिहार विधानसा में हंगामा

तेजस्वी प्रसाद यादव ने कहा कि जो भी कार्रवाई हो रही है, वह अदालत के आदेश से ही हो रही है
-उन्होंने बिहार के कानून-व्यवस्था पर सवाल खड़ा करते हुए कहा कि राज्य में कहीं भी महिलाएं सुरक्षित नहीं हैं
– यादव ने कहा कि मुजफ्फरपुर अल्पावास गृह में अब तक 29 बच्च्यिों के साथ दुष्कर्म की पुष्टि हो चुकी है

उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कहा कि इस पूरे मामले में जांच चल रही है
– उन्होंने विपक्ष पर कटाक्ष करते हुए कहा, “सरकार ना दुष्कर्म के आरोपी राजद के विधायक राजवल्लभ यादव को छोड़ती है ना मुजफ्फरपुर के आरोपियों को छोड़ेगी.
– आरोपी ब्रजेश ठाकुर और नौ अन्य लोगों को गिरफ्तार कर जेल भेजा जा चुका है.”

– विपक्ष के हंगामे के कारण विधानसभा में भोजनावकाश के पहले की कार्यवाही बाधित रही
– सदन से बाहर तेजस्वी ने कहा- मुजफ्फरपुर मामले की जांच उच्च न्यायालय की देखरेख में सीबीआई से होनी चाहिए
– विधान परिषद में भी राजद सदस्यों ने मुजफ्फरपुर मामले को लेकर जमकर हंगामा किया और सरकार के खिलाफ नारेबाजी की
– राजद सदस्य मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से इस्तीफे की मांग कर रहे थे
– राजद नेता और बिहार की पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी ने भी मुजफ्फरपुर मामले की सीबीआइ जांच की मांग की है
– राबड़ी देवी ने सरकार दोषियों को बचा रही है मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को इस बारे में जवाब देना चाहिए
– राबड़ी देवी ने कहा कि राज्य भर के बालिका गृहों की जांच सीबीआई से हो, यह अत्यंत गंभीर मामला है