Bihar Assembly Election 2020: बिहार विधानसभा चुनाव से पहले लोजपा-जदयू में जारी अनबन के बीच केंद्रीय खाद्य मंत्री और एलजेपी (LJP) नेता रामविलास पासवान (Ramvilas Paswan) ने ट्वीट कर बड़ी बात कह दी है. उन्होंने कहा है कि मेरी तबियत अभी खराब है और मैं दिल्ली के अस्पताल में भर्ती हूं.  ऐसे में मेरा बेटा चिराग बिहार विधानसभा चुनाव को लेकर जो भी फैसला लेगा मैं उसके साथ मजबूती के साथ खड़ा हूं. उन्होंने ट्वीटर के जरिए अपने स्वास्थ्य की जानकारी दी है. Also Read - बिहार में चुनाव के अभी से दिख रहे साइड इफेक्ट, कहीं उमड़ रहा प्यार तो कहीं पड़ी दरार

बेहद भावनात्मक ट्वीट करते हुए रामविलास पासवान ने लिखा है कि कोरोना संकट के समय खाद्य मंत्री के रूप में निरंतर अपनी सेवा देश को दी और हर संभव प्रयास किया कि सभी जगह खाद्य सामग्री समय पर पहुंच सके. इसी दौरान तबियत खराब होने लगी लेकिन काम में कोई ढिलाई ना हो इस वजह से अस्पताल नहीं गया. Also Read - Bihar Assembly Elections 2020: बिहार में कैसे होंगी चुनावी रैलियां और कितनी जुटेगी भीड़? आयोग ने दिया हर सवाल का जवाब

रामविलास पासवान ने लिखा है कि मैं अस्पताल में अब भर्ती हूं और मेरे बेटे चिराग पासवान इस वक्त हरदम मेरे साथ हैं, वो मेरा पूरा ख्याल रख रहे हैं और पार्टी की भी पूरी जिम्मेदारी उन्होंने बेहतर तरीके से संभाल रखी है. रामविलास ने कहा कि चिराग अब इस लायक हैं कि वो सभी फैसले ले सकें. वो बिहार को लेकर जो भी फैसला लेंगे, मैं उनके हर फैसले के साथ मजबूती से खड़ा हूं. चिराग युवा हैं और बिहार को नई ऊचाईयों पर ले जाएंगे. Also Read - बिहार चुनाव की तारीख का हुआ ऐलान, लालू ने दिया नया नारा "उठो बिहारी, करो तैयारी"

दरअसल, इस समय बिहार में विधानसभा चुनाव को लेकर सरगर्मी तेज हो गई है. एलजेपी और जेडीयू के बीच की खटपट खुलकर सामने आ रही है और लोजपा ने नीतीश को सीएम चेहरा मानने से इंकार कर दिया है. इसके जवाब में जदयू ने भी कहा है कि चिराग स्वतंत्र हैं जहां जाना हो जाएं, हमारा गठबंधन भाजपा से है लोजपा से नहीं. ऐसे में कयास ये भी लगाए जा रहे हैं कि चिराग पासवान कोई बड़ा फैसला ले सकते हैं.

इससे पहले कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह ने रामविलास पासवान को एनडीए छोड़ यूपीए में आने का न्यौता तक दे दिया था. ऐसे में रामविलास पासवान के इस ट्वीट का अर्थ निकाला जा रहा है कि रामविलास पासवान ने चिराग को एलजेपी से जुड़े फैसले लेने की पूरी छूट दी है.