Bihar Assembly Election 2020: कहते हैं राजनीति में सबकुछ जायज है, रिश्तों की मिठास-विवादों की खटास तो पक्ष विपक्ष का एक-दूसरे पर आरोप लगाना. यहां बेटे-बाप, यहां आपसी रिश्ते राजनीतिक रिश्तों से बिल्कुल अलग होते हैं. राजनीतिक चिर प्रतिद्वंद्वी भी जब मिलते हैं तो एक-दूसरे को गले लगाते हैं, एक दूसरे का हालचाल जानते हैं. Also Read - Love Jihad पर विवाद, बिहार में उठी कानून बनाने की मांग, महाराष्ट्र ने कहा-हमें जरूरत नहीं

कल चिराग ने पैर छूकर सीएम नीतीश को किया प्रणाम Also Read - Sarkari Naukri 2021 in Bihar: बिहार में होगी बंपर बहाली, New Year में 2 लाख नौकरियां देगी नीतीश सरकार! जानिए डिटेल्स..

ऐसा ही वाकया फिलहाल बिहार विधानसभा चुनाव से पहले दिखा है. नीतीश कुमार पर हमला बोलने वाले आरोप लगाने वाले चिराग पासवान ने पटना स्थित लोजपा के पार्टी कार्यालय में आयोजित पूर्व केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान के श्राद्धकर्म में जब नीतीश कुमार पहुंचे तो चिराग ने उनका पैर छूकर आशीर्वाद लिया. इसके बाद नीतीश ने चिराग के साथ ही उनकी मां से भी मुलाकात की थी. Also Read - Bihar के नए शिक्षामंत्री को नहीं आता राष्ट्रगान, कैसी देंगे शिक्षा, video दिखा राजद ने पूछा सवाल

अपने अभिन्न मित्र रामविलास पासवान के श्राद्धकर्म में पहुंचे नीतीश कुमार ने प्रसाद रूपी मिठाई खाने के बाद चिराग से बात भी की थी. नीतीश कुमार के पैर छूने के मामले पर चिराग पासवान ने कहा कि वह उनका व्यक्तिगत संबंध है और यह हमेशा रहेगा.

आज चिराग ने सीएम नीतीश पर लगाए बड़े आरोप

उसके बाद आज चिराग ने आज अपनी पार्टी का घोषणापत्र जारी करते हुए नीतीश पर बड़े-बड़े आरोप लगाए हैं. चिराग कहा कि मुख्यमंत्री न मेरे सवाल का जवाब देते हैं और न मेरा फोन उठाते हैं. चिराग ने कहा कि बिहार में अधिकारियों का ही बोल-बाला है और यहां अधिकारी ही सरकार चलाते हैं. मुख्यमंत्री अपने अधिकारियों को इसके लिए बढ़ावा देते हैं.

उन्होने कहा कि बिहार में सीएम नीतीश की सात निश्चय योजना में जमकर भ्रष्टाचार हुआ है. सारे काम कागज पर किए गए. मुख्यमंत्री जी सड़क पर निकलिए सब भरम दूर हो जाएगा. चिराग ने नीतीश कुमार से पूछा बताईए कि आपने 15 साल में क्या काम किया. अब नीतीश राजद के शासनकाल के 15 साल की बात करते हैं तो पहले उन्हें जवाब देना चाहिए कि आपने खुद पिछले 5 साल में क्या किया. नीतीश ने कोरोना काल में क्या किया? लॉकडाउन के दौरान लाखों प्रवासी घर लौटने को मजबूर हुए, उनके लिए सरकार ने क्या किया?

नीतीश कुमार प्रधानमंत्री के नाम पर मुख्यमंत्री बनना चाहते हैं. इनको पता है कि इनके काम पर जनता इनको नकार देगी. मेरे पापा ने लॉकडाउन में हर घर में अनाज पहुंचवाया और हम सत्ता में आए तो किन्नर समाज को सम्मान का जीवन दिया जाएगा. मैंने किन्नर समाज के एक सदस्य को टिकट दिया है. आप बताएं आपने क्या किया है.