पटना। राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) के अध्यक्ष लालू प्रसाद ने बुधवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के 26 अगस्त को प्रस्तावित बाढ़ प्रभावित इलाके के हवाई सर्वेक्षण कार्यक्रम पर तंज कसते हुए कहा कि प्रधानमंत्री यहां बाढ़ के बहाने ‘हवाखोरी’ करने आ रहे हैं. पटना में एक संवाददाता सम्मेलन में पूर्व केंद्रीय मंत्री ने कहा कि मोदी बाढ़ पीड़ित लोगों को देखने बिहार आ रहे हैं. यह सब नौटंकी है, बाढ़ तो बहाना है. बाढ़ का पानी जब उतर गया है, तब पीड़ितों को देखने आ रहे हैं. वे बुनियादी बातों को देखने नहीं, ‘हवाखोरी’ के लिए आ रहे हैं.

उन्होंने बिहार में इस साल बाढ़ के आने के कारणों का जिक्र करते हुए कहा कि बांध टूटने के कारण इस साल बाढ़ आई. उन्होंने कहा कि इस साल बांध मरम्मत के नाम पर बहुत घोटाला हुआ. लालू ने कहा कि लोग मारे जा रहे हैं. मुख्यमंत्री बाढ़ बचाव की तैयारी करने की बजाय कुर्सी की जोड़-तोड़ और छवि का डेंट-पेंट करने में लगे थे.

माना कि बाढ़ प्राकृतिक आपदा है, लेकिन सरकार हर वर्ष बाढ़ और कटाव के नाम पर तटबंध निर्माण में हजारों करोड़ रुपये खर्च करती है, लेकिन उसकी उपयोगिता जमीन पर नहीं दिखती, बाढ़ के नाम पर भी घोटाला हुआ है. उन्होंने आरोप लगाया कि सरकार बाढ़ से मरने वालों के बारे में सही आंकड़े जारी नहीं कर रही है. पीड़ित लोगों के प्रति सरकार का रवैया उदासीन है. सरकार से ज्यादा मदद तो गैर-सरकारी संस्थाएं और उसके कार्यकर्ता लोग कर रहे हैं.

उल्लेखनीय है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शनिवार को बिहार के बाढ़ प्रभावित इलाकों का हवाई सर्वेक्षण करने वाले हैं. हवाई सर्वेक्षण के दौरान प्रधानमंत्री प्रभावित क्षेत्रों में चलाए जा रहे राहत और बचाव कार्यों व बाढ़ से हुए नुकसान का जायजा लेंगे.