पटना। बिहार में महागठबंधन टूटने के बाद सियासी घमासान मचा हुआ है. बीजेपी के साथ मिलकर सरकार बनाने के जेडीयू में विरोध हो रहा है तो वहीं आरजेडी में भी बगावत शुरू हो गई है. आरजेडी विधायक महेशवर प्रसाद यादव ने गुरुवार को महागठबंधन टूटने के लिए पार्टी सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के ‘पुत्र-मोह’ को दोष दिया.Also Read - Bihar के डिप्‍टी CM ने कहा- भारत-पाक के बीच T20 WC मैच रुकनी चाहिए, BCCI उपाध्‍यक्ष ने कही ये बात

Also Read - बिहार के पूर्व सीएम जीतनराम मांझी ने कहा, मोदीजी, 15 दिन के लिए जम्मू-कश्मीर बिहारियों को सौंप दीजिए, फिर देखिए

एएनआई से बातचीत में महेशवर ने कहा कि लालू के ‘पुत्र-मोह’ के कारण महागठबंधन की सरकार गिर गई. महेशवर ने कहा कि बिहार के सीएम नीतीश कुमार एक ईमानदार व्यक्ति हैं. उन्होंने कहा कि राजनीति में कर्पूरी ठाकुर के बाद नीतीश कुमार ही एक ऐसे नेता हैं जो इस तरह के विवादों में नहीं उलझते और ईमानदारी के साथ अपना काम करते हैं. Also Read - Power Crisis: बिहार के कई जिलों में 10 घंटे से अधिक बिजली की कटौती, जानें क्या बोले सीएम नीतीश कुमार

महेशवर प्रसाद ने कहा कि महागठबंधन को बचाने के लिए आरेजडी के के वरिष्ठ नेताओं ने भी तेजस्वी यादव के इस्तीफे का सुझाव दिया था, लेकिन लालू और उनके बेटे ने इस्तीफा न देने का अड़ियल रवैया अपना रखा था. हमलोगों ने नीतीश कुमार के तरफ से इतना बड़ा कदम उठाने की उम्मीद नहीं की थी. 

महेशवर ने कहा कि नीतीश जी की आदत है कि वो अपने गठबंधन में दागी व्यक्ति को नहीं रखते हैं, इसलिए गठबंधन टूट गया. महेशवर प्रसाद यादव मुजफ्फरपुर जिले के गायघाट विधानसभा क्षेत्र से विधायक हैं.

उल्लेखनीय है कि नीतीश ने बुधवार शाम इस्तीफा देकर बिहार की सियासत में भूचाल ला दिया. नीतीश ने इस्तीफा देने के बाद कहा कि उन्होंने अंतरआत्मा की आवाज पर ये फैसला लिया. जो परिस्थिति बनी उसके बाद उनका सरकार चलाना असंभव हो गया था. घोटाले में फंसे डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव के मामले पर भी उन्होंने नाखुशी जताई. उन्होंने कहा कि तमाम परिस्थियों ने उन्हें इस्तीफा देने पर मजबूर कर दिया.

नीतीश के इस्तीफा देते ही बीजेपी ने नीतीश को समर्थन देने का ऐलान कर दिया. यही नहीं, बीजेपी ने सरकार में भी शामिल होने का फैसला किया. आज नीतीश ने दोबारा सीएम पद की शपथ ली जबकि सुशील कुमार मोदी डिप्टी सीएम बने.