पटना| पड़ोसी देश नेपाल और बिहार में लगातार हुई भारी बारिश के कारण अचानक आयी बाढ़ से प्रदेश में अब तक 72 लोगों की मौत हो जाने के साथ बाढ़ से 14 जिलों की 73.44 लाख आबादी प्रभावित हुई है. राज्य सरकार के द्वारा बाढ़ में घिरे लोगों को सुरक्षित निकाले जाने का कार्य युद्ध स्तर पर किया जा रहा है. अब तक 2.74 लाख लोगों को बाढ प्रभावित इलाके से सुरक्षित स्थान पर पहुंचाया गया है और 504 राहत शिविरों में 1.16 लाख व्यक्ति शरण लिए हुए हैं. बिहार में हुई इस भयानक प्राकृतिक आपदा के निशान सोशल मीडिया पर दिखने लगे हैं. बड़ी संख्या में लोग बिहार-बाढ़ की तस्वीरें शेयर कर रहे हैं.

बाढ़ प्रभावित प्रदेश के 14 जिलों किशनगंज, अररिया, पूर्णिया, कटिहार, पूर्वी चंपारण, पश्चिमी चंपारण, दरभंगा, मधुबनी, मुजफ्फरपुर, सीतामढी, शिवहर, गोपालगंज, सुपौल एवं मधेपुरा में से सबसे अधिक 20 लोग अररिया में, सीतामढ़ी में 11, पश्चिमी चंपारण में 9, किशनगंज में 8, मधुबनी एवं पूर्णिया में 5-5, मधेपुरा एवं दरभंगा में 4-4, पूर्वी चंपारण में 3, शिवहर 2 और सुपौल में एक व्यक्ति की मौत हुई है.

पिछले कुछ दिनों से सोशल मीडिया में बिहार बाढ़ से जुड़ी तस्वीरों की भी बाढ़ आई हुई है. छोटे बच्चों की लाशें, मरे हुए मवेशी और बिखरी हुई गृहस्तियों की तस्वीरें देखकर किसी का भी दिल पसीज जाएगा. हम आपके लिए कुछ ऐसी ही तस्वीरें लेकर आए हैं जो सोशल मीडिया पर इन दिनों शेयर की जा रही हैं. इन तस्वीरों के साथ लोग राज्य सरकार और केंद्र सरकार से शिकायत कर रहे हैं तो कुछ तंज़ भी कर रहे हैं. कुछ श्रद्धांजलि दे रहे हैं, दुख प्रकट कर रहे हैं तो कुछ मदद मांग रहे हैं.