नई दिल्‍ली: बिहार के लोगों ने आज शुक्रवार को सुबह शहीद जवान जय किशोर सिंह को अंतिम विदाई दी. गलवान वैली में 15-16 जून की दरम्‍यानी रात चीनी सैनिकों से झड़प में शहीद जवान जय किशोर सिंह की अंतिम यात्रा में उनके पैत्र‍िक गांव के लोगों की भीड़ उमड़ पड़ी. गांव के लोग जवान को अंतिम विदाई देने के दौरान भारत माता की जय और जय किशोर अम‍र रहे लगा रहे थे. Also Read - बिहार में फिर टूटा आसमानी बिजली का कहर, 15 लोगों की मौत

शहीद जवान जय किशोर की पार्थिव देह लद्दाख से वैशाली जिले के चक फतेह गांव लाई गई थी. आज सुबह उनकी देह को अंतिम संस्‍कार के लिए घर से निकालकर एक खुले ट्रक में ले जाया गया. इस ट्रक को फूलों से सजाया गया था. इस दौरान पूरे गांव में दुख और आक्रोश का माहौल है. वीर जवान जय किशोर सिंह ने 15-16 जून को GalwanValley में चीनी सैनिकों से झड़प की कार्रवाई में अपनी जान देश की रक्षा करते हुए न्‍योछावर कर दी थी. Also Read - चीन की बढ़ेंगी मुश्किलें! कहां से निकला कोरोना वायरस? जांच के लिए अगले हफ्ते चाइना जाएगी डब्ल्यूएचओ की टीम

बता दें कि भारत-चीन सीमा पर हुई झड़प में बिहार निवासी पांच शहीदों- चंदन कुमार, कुंदन कुमार, अमन कुमार, जयकिशोर एवं सुनील कुमार को लेकर पूरे राज्‍य में गम और गुस्‍सा है.

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने भारत-चीन सीमा पर हुई झड़प में बिहार निवासी पांच शहीदों- चंदन कुमार, कुंदन कुमार, अमन कुमार, जयकिशोर एवं सुनील कुमार के शहादत के सम्मान में इनके परिजनों को राज्य सरकार की ओर से 11 – 11 लाख रुपए के अनुग्रह अनुदान देने की घोषणा की है. उन्होंने कहा है कि इसके अतिरिक्त मुख्यमंत्री राहत कोष से पांचो शहीदों के परिवार को 25 लाख रुपए दिए जाएंगे. मुख्यमंत्री ने कहा है कि इन शहीदों के परिवार से एक-एक आश्रित को राज्य सरकार द्वारा नौकरी भी दी जाएगी.