गोपालगंज: एससी-एसटी एक्ट में संशोधन को लेकर हो रहा विरोध शान्त होता नहीं दिख रहा है. गुरुवार को केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी बिहार के गोपालगंज में युवा संकल्प सम्मलेन में हिस्सा लेने पहुंची थीं, जहां उन्हें सवर्ण समाज के लोगों के विरोध का सामना करना पड़ा. सवर्ण सेना के कार्यकर्ताओं ने केंद्रीय मंत्री को काले झंडे दिखाए. इतना ही नहीं कुछ असामाजिक तत्वों के लोगों ने शहर में लगे उनकी तस्वीर वाले पोस्टरों पर कालिख भी पोत दी.

एससी-एसटी एक्ट में संशोधन का हो रहा है विरोध
वरिष्ठ केन्द्रीय मंत्री का कार्यक्रम गुरुवार को गोपालगंज के मिंज स्टेडियम में आयोजित किया गया था. कार्यक्रम में शिरकत करने भाजपा नेता और स्वास्थ्य मन्त्री मंगल पांडे भी पहुंचे थे. एनएसयूआई और सवर्ण सेना के कार्यकर्ताओं का यह विरोध एससी-एसटी एक्ट में संशोधन को लेकर हो रहा है. विरोध में केंद्र सरकार के खिलाफ नारे भी लगाए गए.

भाजपा कार्यकर्ताओं और विरोधियों के बीच हुई मारपीट
पूरे विरोध के बीच भाजपा कार्यकर्ताओं और विरोध कर रहे लोगों के बीच मारपीट की भी सूचना मिली है. बाद में पुलिस ने मौके पर पहुंचकर मामले को शांत कराया. एनएसयूआई कार्यकर्ताओं ने पुलिस पर विरोध कर रहे लोगों पर लाठीचार्ज करने का आरोप लगाते हुए मुख्यमंत्री और प्रधानमंत्री का पुतला जलाया.

स्मृति ईरानी के कार्यक्रम से पहले ही कुछ असामाजिक तत्वों ने शहर में लगे बैनर पर कालिख पोत दी. शहर में लगे कई पोस्टरों में स्मृति के चेहरे पर कालिख पोती गई. हालांकि बाद में भाजपा कार्यकर्ताओं ने उन पोस्टरों को वहां से हटा दिया.

अन्य भाजपा नेताओं को भी झेलना पड़ा है विरोध
इससे पहले, बुधवार को केंद्रीय मंत्री रामकृपाल यादव को भी मुजफ्फरपुर में विरोध का सामना करना पड़ा था. सवर्ण समाज के कार्यकर्ताओं ने उनकी गाड़ी को रोककर उनके वाहन पर स्याही फेंक दी थी. सवर्ण सेना के विरोध का केंद्रीय मंत्री अश्विनी चौबे, बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी और भाजपा नेता मनोज तिवारी को भी सामना करना पड़ा है. (इनपुट भाषा)