पटना: करीब दो दशक के बाद कांग्रेस में वापसी करने वाले तारिक अनवर ने पार्टी के पुराने नेताओं से वापस लौटने की अपील की है. उन्होंने केंद्र में भाजपा और बिहार में नीतीश कुमार सरकार को भी बाहर का रास्ता दिखाने का आह्वान किया.

शरद पवार की राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) को छोड़ने के बाद अनवर पिछले हफ्ते दिल्ली में कांग्रेस में शामिल हुए. राकांपा में वह महासचिव थे. कांग्रेस के बिहार मुख्यालय में संवाददाता सम्मेलन में उन्होंने कहा कि राकांपा से अलग होने का उनका निर्णय ‘‘दुखदायी’’ था और स्पष्ट किया कि वह बिना शर्त कांग्रेस में शामिल हुए हैं.

अनवर पांच बार लोकसभा में कटिहार संसदीय क्षेत्र के प्रतिनिधि रह चुके हैं. पार्टी में शामिल होने के बाद पहली बार गृह राज्य के दौरे पर आए अनवर ने कहा, ‘‘कांग्रेस ने मुझे काफी दिया है. राष्ट्रीय अध्यक्ष होने के अलावा मैंने संभवत: हर महत्वपूर्ण पद पर काम किया है.’’

चार महीने से ऐश्‍वर्य के साथ नहीं रह रहे तेजप्रताप, पत्‍नी पर लगाया प्रताड़ना का आरोप

राफेल के मुद्दे पर पवार के रुख को लेकर मतभेद पैदा होने के बाद 28 सितम्बर को उन्होंने पार्टी छोड़ दी थी. राकांपा प्रमुख ने सितम्बर में एक राष्ट्रीय चैनल पर कहा था कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के मंसूबों पर (राफेल सौदे में) लोगों को ‘‘संदेह नहीं है.’’ बहरहाल, बाद में वह अपने बयान से पलट गए थे.

बिहार: पटना में महिला कॉन्‍स्‍टेबल की मौत पर आक्रोशित पुलिसकर्मियों ने जमकर काटा बवाल, सिटी एसपी की भी कर दी पिटाई

उन्होंने कहा, ‘‘कांग्रेस मेरा पुराना घर है. और जिन लोगों ने पिछले वर्षों में विभिन्न कारणों से पार्टी छोड़ी है, उनसे मैंने अपील की है कि वापस लौटें और मोदी तथा नीतीश कुमार के खिलाफ लड़ाई में हमारे साथ आएं.’’