पटना: आरजेडी विधायक व पूर्व मंत्री तेज प्रताप यादव के हथियारबंद निजी गार्डो के बुधवार सुबह विधानसभा परिसर के अंदर घूमने की घटना के बाद बिहार विधानसभा में सुरक्षा-व्यवस्था को लेकर सवाल खड़े हो रहे हैं. तेज प्रताप सोमवार को शुरू हुए बजट सत्र में भाग लेने राज्य विधानसभा पहुंचे थे. बता दें कि तेज प्रताप आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद के बड़े बेटे हैं. इस मामले को लेकर राज्‍य के डीजीपी ने जांच के लिए कहा है और अगर राजद नेता दोषी पाए जाते हैं तो कार्रवाई की जाएगी. Also Read - बिहार में चुनाव प्रचार रथ निकालेगी भाजपा, कहा- आरजेडी का जंगलराज याद दिलाएंगे

Also Read - राहुल गांधी का PM मोदी पर हमला- पहली बार दशहरा में 'रावण' नहीं, प्रधानमंत्री का पुतला जलाया गया

तेज प्रताज के हथियारबंद निजी गार्डो को विधानसभा के सुरक्षा मानकों का उल्लंघन करते देखकर लोगों को आश्चर्य हुआ. परिसर के अंदर घूमते हुए गार्डों की तस्वीर कैमरे में कैद हो गई. Also Read - Bihar Assembly Election 2020: पहले चरण से निकलेगा तेजस्वी के सीएम बनने का रास्ता! जानिए आखिर क्यों खुद को मजबूत मान रहा राजद

एक्ट्रेस को मोबाइल शॉप चलाने वाले से हुआ प्यार, एक्टिंग छोड़ पार्लर तक चलाया, फिर भी देनी पड़ी जान

इस बारे में जब सवाल किए गए तो तेज प्रताप ने स्पष्टीकरण दिया कि वह और उनके गार्ड विधानसभा के सुरक्षा इंतजाम का रियल्टी चेक करने पहुंचे थे और उन्होंने खुद के लिए आधिकारिक सुरक्षा की मांग की. तेज प्रताप ने कहा, “मेरे पास पुलिस सुरक्षा नहीं है, इसलिए मुझे निजी गार्ड रखने पड़े हैं.”

पहली पत्‍नी भीड़ लेकर आई, विधायक और उसकी ‘सेकेंड वाइफ’ को जमकर पीटा

हालांकि, बिहार पुलिस के महानिदेशक गुप्तेश्वर पांडेय ने मीडिया से कहा, “मैंने पटना की वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक गरिमा मलिक से घटना की जांच करने को कहा है.” उन्होंने यह भी कहा कि अगर राजद नेता दोषी पाए जाते हैं तो कार्रवाई की जाएगी.