बिहार में राजनीतिक पारा एक बार फिर चढ़ने लगा है. बयानबाजियों का दौर फिर से शुरू हो गया है. राष्ट्रीय जनता दल (RJD) के वरिष्ठ नेता उदय नारायण चौधरी के प्रस्ताव को तेजस्वी यादव ने उनका निजी बयान बताया है. नीतीश कुमार ने जनादेश का अपमान कर रहे हैं. वे महागठबंधन से खुद ही निकले थे. लेकिन आज भाजपा के सामने सिर झुकाए खड़ें हैं. Also Read - लालू यादव की तबीयत ख़राब होने के सवाल पर CM नीतीश कुमार बोले- अब तो मुझे...

इस बाबत तेजस्वी यादव का कहना है कि भाजपा पर दबाव बनाने के लिए नीतीश कुमार द्वारा अध्यक्ष पद को छोड़ा गया है. ऐसा इसलिए क्योंकि नीतीश कुमार तीन तलाक, किसान कानून, CAA-NRC का समर्थन कर रहे हैं और अब लव जिहाद के खिलाफ अलग दिखने का प्रयास कर रहे हैं. भाजपा और जदयू के बीच केवल एक समझौता था, कोई गठबंधन नहीं था. भाजपा एक सांप्रदायिक ताकत है जिसको बिहार में फलने-फूलने का मौका नीतीश कुमार ने दिया. अब नीतीश ही तय करें कि उन्हें क्या करना है. Also Read - लालू प्रसाद यादव को दिल्ली के एम्स में भर्ती कराया गया, डॉक्टरों की टीम गठित

बता दें कि राजद के वरिष्ठ नेता उदय नारायण चौधरी ने अपने दिए बयान में कहा था कि अगर नीतीश कुमार तेजस्वी यादव को बिहार का मुख्यमंत्री बनाते हैं तो उन्हें साल 2024 में प्रधानमंत्री बनाने के लिए विपक्षी पार्टियां समर्थन कर सकती हैं. इसी बयान पर तेजस्वी यादव ने प्रतिक्रिया दी है. Also Read - Lalu Yadav Health News Update: बीमार लालू यादव को दिल्‍ली के एम्‍स भेजा जा रहा, रांची से एयर एम्‍बुलेंस से लाए जाएंगे

असल में, आरजेडी के वरिष्ठ नेता उदय नारायण चौधरी ने कहा था कि अगर नीतीश कुमार तेजस्वी यादव को मुख्यमंत्री बना दें तो उनको 2024 में प्रधानमंत्री के लिए विपक्षी पार्टियां समर्थन कर सकती हैं. उदय नारायण चौधरी के इसी बयान पर तेजस्वी यादव की यह प्रतिक्रिया सामने आई है.