पटना: बिहार विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष व पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव को 5, देशरत्न मार्ग स्थित सरकारी बंगला अब खाली करना ही होगा. पटना उच्च न्यायालय ने शनिवार को राज्य सरकार के आदेश पर अपनी मुहर लगा दी. पटना उच्च न्यायालय के न्यायाधीश ज्योति शरण ने राज्य सरकार की उस दलील को सही मानते हुए तेजस्वी को बंगला खानी करने का आदेश दिया, जिसमें कहा गया था कि तेजस्वी को वह बंगला उपमुख्यमंत्री के तौर पर आवंटित किया गया था. Also Read - Driving License Latest Update: अब चुटकियों में बन जाएगा ड्राइविंग लाइसेंस, बदल गए हैं नियम, जानिए

Also Read - पटना हत्याकांड के बाद छिड़ी राजनीतिक जंग, किसी ने की एनकाउंटर की मांग, तो किसी ने मांगा इस्तीफा

बिहार में दिखाए गए स्मृति ईरानी को काले झंडे: भाजपा कार्यकर्ताओं से हुई मारपीट Also Read - बिहार में डिलीवरी के दौरान नवजात का कटा सिर, मां और बच्चे दोनों की हुई मौत

पद से हटने के बाद सरकार ने तेजस्वी का आवंटन रद्द करते हुए यह बंगला उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी को आवंटित कर दिया है. तेजस्वी ने राज्य सरकार के इस फैसले के खिलाफ पटना उच्च न्यायालय में याचिका दायर की थी. अदालत ने सभी पक्षों की दलीलें सुनने के बाद फैसला सुरक्षित रख लिया था. फैसला शनिवार को सुनाया गया.

IRCTC घोटाला मामले में लालू यादव, राबड़ी देवी और तेजस्वी को मिली नियमित जमानत

तेजस्वी राजद, कांग्रेस और जद (यू) महागठबंधन की सरकार में उपमुख्यमंत्री बनाए गए थे. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बाद में अपने जद (यू) को महागठबंधन से अलग कर लिया और जनादेश के विपरीत हाशिये पर पड़े भाजपा को साथ लेकर दूसरी सरकार बना ली. जब सरकार बदली तो सुशील कुमार मोदी उपमुख्यमंत्री हो गए.