नई दिल्ली. बिहार को विशेष राज्य के दर्जे पर सीएम नीतीश कुमार के एक बार फिर बयान देने से प्रदेश की सियासत गर्मा गई है. 15वें वित्त आयोग को बिहार द्वारा भेजे गए पत्र के संदर्भ में नीतीश कुमार द्वारा लिखे गए एक लेख पर विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष और बिहार के पूर्व डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव ने तंज कसा है. तेजस्वी यादव ने टि्वटर पर डाले गए अपने पोस्ट में कहा है कि क्या नीतीश कुमार और सुशील मोदी बिहार के लिए विशेष राज्य का दर्जा अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप से मांग रहे हैं. उन्होंने बिहार को विशेष राज्य के संदर्भ में टि्वटर पर एक के बाद एक कई पोस्ट डाले हैं. उन्होंने नीतीश कुमार पर आरोप लगाया है कि वह बिहार की जनता को भरमाने के लिए ऐसी भूमिकाएं बना रहे हैं. बिहार को विशेष राज्य का दर्जा नहीं दिलवाने को लेकर तेजस्वी ने सीएम नीतीश कुमार से इस्तीफे की मांग भी की है.

नीतीश की मांग को कहा- प्रेशर पॉलिटिक्स
राजद नेता तेजस्वी यादव ने सीएम के लेख पर तंज कसते हुए इसे नीतीश कुमार द्वारा भाजपा के ऊपर बनाया जा रहा प्रेशर पॉलिटिक्स बताया है. तेजस्वी ने नीतीश कुमार के लेख के साथ डाले गए अपने पोस्ट में लिखा है, ‘प्यारे चाचा, वित्त आयोग को काहे इंडिरेक्ट्ली कह रहे हैं? प्रधानमंत्री जी ने भरी-दुपहरी में भरी सभा में बिहार को विशेष राज्य का दर्जा देने का वादा और दावा किया था. क्या आप नहीं जानते? सीधे उनको लिखिए, उनके भाषण सुनाइए जैसे आप 15 लाख काले धन वाला चलाते थे. पब्लिक है सब जानती है.’ महागठबंधन छोड़कर भाजपा के साथ सरकार बनाने के मुद्दे पर भी तेजस्वी ने नीतीश कुमार को घेरा है. उन्होंने एक दूसरे ट्वीट में लिखा है, ‘आपने हमारा जनादेश चोरी कर लिया. अब हमारी विशेष राज्य की मांग के बहाने बीजेपी पर प्रेशर पॉलिटिक्स करना चाह रहे हैं. कुछ विकासवा कीजिएगा या नहीं या हरदम सहयोगियों संग ई ब्लैकमेलिंग वाला खेला ही चलता रहेगा? आपने विशेष राज्य के मुद्दे पर मेरे पहले वाले पत्र का जवाब आज तक नहीं दिया.’

नैतिक आधार पर इस्तीफा देने की उठाई मांग
बिहार के पूर्व डिप्टी सीएम और विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने बिहार को विशेष राज्य का दर्जा देने के मुद्दे को नीतीश कुमार द्वारा एक बार फिर उठाए जाने को उनकी छवि चमकाने की कवायद बताया है. तेजस्वी ने समाचार एजेंसी को दिए गए बयान में कहा है, ‘लोग जान चुके हैं कि नीतीश कुमार भूमिका बना रहे हैं पलटी मारने के लिए. वह यह छवि बनाना चाहते हैं कि वे बिहार के लिए काम कर रहे हैं, लेकिन चूंकि भाजपा के साथ रहते हुए उन्हें अपना वोट बचाने की भी चिंता है इसलिए उनकी पूरी कवायद सिर्फ इस बात को लेकर है कि कैसे वह मुख्यमंत्री पद पर बने रहें.’ तेजस्वी यादव ने बिहार को विशेष राज्य का दर्जा नहीं दिलवाने के लिए नैतिक आधार पर नीतीश कुमार से इस्तीफे की मांग की है. उन्होंने कहा, ‘बिहार को विशेष राज्य का दर्जा देने की मांग की याद नीतीश कुमार को तब आती है, जब वे सीएम पद पर रहते हैं. लंबे अर्से से नीतीश कुमार बिहार के मुख्यमंत्री हैं, लेकिन अभी तक बिहार को विशेष राज्य का दर्जा नहीं मिल सका है. इसलिए नैतिक आधार पर उन्हें अपने पद से इस्तीफा दे देना चाहिए.’

विशेष दर्जे की मांग पर नीतीश, सुशील और पासवान पर तंज
तेजस्वी यादव ने सीएम नीतीश कुमार, डिप्टी सीएम सुशील कुमार मोदी और केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान द्वारा बिहार को विशेष राज्य का दर्जा दिए जाने की मांग को अवसरवादिता का उदाहरण बताया है. उन्होंने तीनों नेताओं को घेरे में लेते हुए कहा है, ‘नीतीश कुमार, रामबिलास पासवान और सुशील मोदी बिहार के लिए विशेष राज्य का दर्जा विपक्ष से मांग रहे हैं या फिर किसी अदृश्य भूत-प्रेत से…’ राजद नेता ने तीनों नेताओं द्वारा उठाए जा रहे मांग को नौटंकी बताया है. उन्होंने कहा है, ‘केंद्र और राज्य में आपकी सरकार है. फिर ये मांगने की नौटंकी, किससे? जनादेश चोरी करने के बाद भी ये अवसरवादी लोग विकास नहीं करने के बहाने ढूंढ रहे हैं.’ एक अन्य ट्वीट में तेजस्वी ने बिहार के सीएम और डिप्टी सीएम पर तंज कसते हुए कहा है, ‘नीतीश कुमार और सुशील मोदी बिहार के लिए विशेष राज्य का दर्जा Donald Trump से मांग रहे हैं क्या? जनता को बेवकूफ समझा है क्या? सीधे मोदी जी को कहने में डर लगता है क्या? विशेष राज्य के मुद्दे पर चंद्रबाबू नायडू द्वारा एनडीए से अलग होने का उल्लेख करते हुए भी तेजस्वी ने सीएम नीतीश कुमार पर तंज किया है. उन्होंने अपने पोस्ट में लिखा है, ‘नीतीश चाचा, चंद्रबाबु नायडू जी की तरह रीढ़ की हड्डी सीधी रख बतियाईए. बिहार का हक़ मांग रहे हैं, कौनो भीख नहीं.’