पटना: बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के नेता तेजस्वी यादव ने रविवार को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार सरकार को बेरोजगारी के मुद्दे पर घेरते हुए वादा किया कि अगर बिहार के लोग उनकी पार्टी को मौका देते है, तब सरकार बनने के दो महीने के अंदर 10 लाख लोगों को सरकारी नौकरी दी जाएगी. पटना में राजद प्रदेश कार्यालय में एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए तेजस्वी यादव ने कहा कि हमारी सरकार बनी तो कैबिनेट की पहली बैठक में 10 लाख युवाओं को रोजगार देने का फैसला किया जाएगा. Also Read - Bihar 2nd Phase Election 2020: बिहार में चुनाव के बीच IT की अबतक की सबसे बड़ी कार्रवाई, नल-जल योजना पर आफत

उन्होंने आंकड़ों का हवाला देते हुए कहा कि बिहार में 50 हजार पुलिसकर्मियों के पद रिक्त है, जिस पर भर्ती की जाएगी. उन्होंने बताया कि बिहार में एक लाख आबादी पर 77 पुलिसकर्मी हैं जबकि राष्ट्रीय औसत 144 पुलिसकर्मियों का है. उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य विभाग में भी बिहार में 1 लाख 25 हजार चिकित्सकों की जबकि कुल मिलाकर 2 लाख 50 हजार चिकित्सकों और सपोर्टिंग स्टॉफ की जरूरत है. इसी तरह शिक्षा के क्षेत्र में विद्यालयों में 2 लाख 50 हजार शिक्षकों के पद रिक्त हैं तथा कॉलेज और विश्वविद्यालय स्तर पर 50 हजार प्रोफेसरों के पद रिक्त है. उन्होंने कहा कि राज्य में जूनियर इंजीनियर के 66 प्रतिशत पद रिक्त हैं. Also Read - Bihar Polls 2020: दूसरे फेज के चुनाव से पहले नीतीश कुमार ने खेला आबादी के हिसाब से आरक्षण का दांव, कही यह बात...

उन्होंने कहा, “अगर उनकी पार्टी को यहां के लोग मौका देते हैं तो इन सभी पदों पर नियुक्ति की जाएगी.” उन्होंने कहा कि यह वादा नहीं मजबूत इरादा है. उन्होंने नीतीश सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि 15 साल काम करने वालों ने यहां क्या किया? आज बिहार में बेरोजगारों की फौज खड़ी हो गई है. उन्होंने कहा कि पांच सितंबर को राजद ने बेरोजगारों के निबंधन के लिए एक वेब साइट तथा एक मिस्ड कॉल के नंबर जारी किया था. उन्होंने कहा कि वहां 22 लाख से अधिक लोगों ने अपना निबंधन करवाया है. Also Read - चिराग की चुटकी- 'जब अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप कहेंगे BJP का मुझसे कुछ लेना-देना नहीं, तब मानेंगे नीतीश?'