TET Teachers Protest In Bihar: बिहार विधानसभा के नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव बुधवार को अचानक पटना के गर्दनीबाग स्थित धरनास्थल पहुंचे और शिक्षकों के आंदोलन में शामिल हुए और शिक्षकों की समस्या सुनी और उसके बाद उन्होंने डीजीपी, मुख्य सचिव और डीएम को कॉल लगा दिया. इन अधिकारियों से बात की और शिक्षकों को धररना देने की इजाजत देने का अनुरोध किया. उनके फोन पर ये कहते ही मैं तेजस्वी बोल रहा हूं, जिंदाबाद के नारे लगने लगे.Also Read - चिराग पासवान ने 'जहरीली शराब' को लेकर राज्यपाल को लिखी चिट्ठी, बिहार में राष्ट्रपति शासन लगाने की मांग की

धरनास्थल में उपस्थित लोगों से बातें करते हुए तेजस्वी ने कहा कि दवाई, कमाई, सिंचाई, सुनवाई और कारवाई हमारा मुख्य मुद्दा है. मैं सदा बेरोजगारों, छात्रों, शिक्षकों, नौजवानों और किसानों के समर्थन में हूं और रहूंगा. विपक्ष में रहते हुए भी बेरोजगार साथियों को नौकरी दिलाने के लिए प्रतिबद्ध हूं. Also Read - Bihar में बढ़ाई गई कोरोना पाबंदियां, 6 फरवरी तक लागू रहेंगे सभी मौजूदा प्रतिबंध; जानें क्या बोले नीतीश कुमार

तेजस्वी ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर हमला बोलते हुए कहा कि कल रात्रि इतनी ठंड में आंदोलनरत शिक्षक अभ्यर्थियों पर मुख्यमंत्री जी ने लाठीचार्ज करा उनकी रसोई और पंडाल को उखाड़ दिया था, कुछ को गिरफ़्तार किया था जिन्हें हमने रात में छुड़वाया है. आज प्रशासन ने गर्दनीबाग धरना स्थल पर उन्हें धरने की अनुमति नहीं दी जिसके चलते सभी अभ्यर्थी टिकट लेकर इको पार्क पहुंच गए हैं. Also Read - Bihar Politics: बिहार में फिर होगी उलट-फेर? मुकेश सहनी ने दिए बड़े संकेत, तेजस्वी को बताया-छोटा भाई

तेजस्वी ने बताया कि कल शाम  को जब मैं वहां पहुंचा और मुख्य सचिव, डीजीपी और डीएम से बात कर अनुमति मिलने के बाद रात्रि में पैदल मार्च कर उन्हें दोबारा धरना स्थल पर पहुँचा कर आया. स्वीकृत धरना स्थल गर्दनीबाग में शांतिपूर्वक धरना-प्रदर्शन करना आंदोलनकारियों का लोकतांत्रिक अधिकार है.

तेजस्वी ने नीतीश सरकार से पूछा कि…

* सरकार कैसे उन्हें अनुमति नहीं दे सकती?
* प्रशासन कैसे निर्दोष युवाओं, महिलाओं और दिव्यांगों पर लाठीचार्ज कर सकता है?
* हाईकोर्ट के आदेश के बावजूद क्यों 94000 अभ्यर्थियों को नियुक्ति पत्र नहीं दिया जा रहा?
* क्यों शिक्षा मंत्री अपने घर में दुबके बैठे है?
* दो-दो उपमुख्यमंत्री और मुख्यमंत्री 94000 अभ्यर्थियों की नियुक्ति पर क्यों नहीं बोल रहे है?

उन्होंने कहा कि नीतीश सरकार की यह हिटलरशाही हम चलने नहीं देंगे, मैं बिहार के युवाओं को नौकरी देने के लिए कटिबद्ध हूं.