Bihar Politics: बेरोजगारी के खिलाफ RJD ने कल यानि 9 अगस्त को 9बजे-9मिनट का सांकेतिक विरोध  का ऐलान किया था और लोगों से अपील की थी कि रात्रि नौ बजे से नौ मिनट के लिए सभी अपने घरों में बल्ब-ट्यूबलाइट्स बंद कर लालटेन और दीये जलाएं और बेरोजगारी पर अपना विरोध जताएं. Also Read - बिहार में पोस्टर वार: 'एक ऐसा परिवार जो बिहार पर भार' लालू 'सजायाफ्ता कैदी नंबर 3351'

तेजस्वी के आह्वान पर  राजद और उसके सहयोगियों ने बुधवार को बिहार के विभिन्न जिलों में रात 9 बजे से 9 मिनट तक लालटेन, दीया, मोमबत्ती जलाया. पटना में तेजस्वी-तेजप्रताप, मां राबड़ी देवी सहित राजद के नेता कार्यकर्ताओं ने लालटेन जलाया. तो वहीं तेजस्वी यादव की इस मुहिम को उत्तर प्रदेश से लेकर सिंगापुर तक में सपोर्ट मिला. Also Read - बिहार: विधायक जी ने दी धमकी-अगर हम हारे तो तुम्हारे गांव में अकाल पड़ेगा, Video पर बवाल

पटना में रात 9 बजे से पहले ही 10 सर्कुलर रोड स्थित लालू-राबड़ी आवास में पूरा अंधेरा कर दिया गया और लालू परिवार ने साथ मिलकर लालटेन जलाया. इस कार्यक्रम में लालू प्रसाद के बड़े बेटे तेजप्रताप यादव समेत तेजस्वी और राबड़ी देवी ने भी लालटेन जलाया और 9 मिनट तक लालटेन लेकर खड़े रहे. Also Read - बिहार कैबिनेट के बड़े फैसले-नौकरियों की आई बहार, डबल डेकर फ्लाई ओवर भी जल्द

इसके साथ ही तेजस्वी ने ट्वीट कर नीतीश कुमार पर जोरदार हमला बोला और लिखा कि करोड़ों युवाओं के जीवन से बेरोजगारी का अंधेरा भगाने और एक नया बिहार बनाने के लिए आज 9 तारीख़ को रात्रि 9 बजे 9 मिनट तक लालटेन जलाकर बेरोजगारी के खिलाफ चल रही मुहिम में अपनी भागीदारी सुनिश्चित की.

ये बिहार में जो बेरोजगार है
उसके ज़िम्मेवार
नीतीश कुमार है

तेजस्वी की इस मुहिम को उनकी बहन रोहिणी आचार्य ने भी सपोर्ट किया और सिंगापुर में अपने घर पर लालटेन जलाया और इस फोटो को सोशल मीडिया में शेयर भी किया है. तेजस्वी की इस मुहिम पर उत्तरप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और सपा नेता अखिलेश यादव ने कहा कि आज आनेवाले कल के बदलाव का इतिहास लिख दिया, सियासत के आसमान पर रोशनी से इंक़लाब लिख दिया.

उन्होंने कहा कि आज युवाओं ने भाजपा के शासनकाल की उल्टी गिनती की शुरूआत कर दी है. हमने नौजवानों की ख़ातिर मोमबत्तियाँ जलाकर हमेशा की तरह आज भी उनका साथ दिया है और देते रहेंगे.

तेजस्वी ने इस दौरान मीडिया को संबोधित करते हुए कहा कि नीतीश जी कहते हैं कि बिहार के लोगों को अब लालटेन की जरूरत नहीं है, लेकिन सच तो ये है कि बिहार में अब तीर की जरूरत नहीं है क्योंकि जमाना मिसाइल का आ चुका है. ऐसे में तीर की भला क्या कोई जरूरत है?

तेजस्वी यादव ने कहा कि नीतीश कुमार से बिहार के सारे लोग नाराज हैं. उन्होंने हाल ही में वर्चुअल रैली किया, जो पूरी तरह फेल साबित हुई. सोशल मीडिया में उनके रैली को लाइक से ज्यादा डिसलाइक मिला. बिहार के बेरोजगार युवक जब सरकार से इसके बारे में सवाल उठाते हैं तो उनकी पुलिस नौजवानों के ऊपर लाठी बरसाती है.