मुजफ्फरपुर: केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने मंगलवार को कहा कि उनकी राजनीतिक पारी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के दूसरे कार्यकाल के साथ खत्म हो सकती है संवाददाताओं ने तेज तर्रार भाजपा नेता से अगले वर्ष विधानसभा चुनाव के बाद मुख्यमंत्री पद की उनकी दावेदारी के बारे में सवाल किया था. इस पर सिंह ने कहा, ”मैं पार्टी के उन कार्यकर्ताओं में से एक हूं जो कश्मीर के भारत से एकीकरण का सपना लेकर सार्वजनिक जीवन में आए थे. जिस सपने के लिए श्यामा प्रसाद मुखर्जी ने अपना जीवन बलिदान कर दिया, उसे मोदी ने साकार किया.”

उन्होंने कहा, ‘मैं सत्ता या पद प्राप्त करने के लिए राजनीति में नहीं आया था. इसलिए मुझे लगता है कि मेरी राजनीतिक पारी समापन की ओर है. यह प्रधानमंत्री मोदी के वर्तमान कार्यकाल के बाद समाप्त हो सकती है.’ उन्होंने कहा कि वे राजनीति में जो करना चाहते थे, वह सब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पूरा कर दिया है. बता दें कि सिंह की पहचान कट्टर हिंदू नेता के तौर पर होती है. सिंह बिहार में भी मंत्री का पद संभाल चुके हैं.

अपने बयानों के कारण चर्चा में रहने वाले सिंह ने मुजफ्फरपुर में मीडियाकर्मियों से चर्चा करते हुए कहा, “प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की दूसरी पारी मेरे राजनीतिक जीवन की भी अंतिम पारी है. मैं राजनीति में मंत्री-विधायक बनने नहीं, कुछ मकसद व सपनों के साथ आया था. सपना था, ‘जहां हुए बलिदान मुखर्जी, वह कश्मीर हमारा हो’.”

भाजपा के ‘फायर ब्रांड’ नेता माने जाने वाले सिंह ने आगे कहा, “जम्मू एवं कश्मीर से अनुच्छेद 370 और 35ए हटाना मेरा मकसद था. नरेंद्र मोदी सरकार ने अपने दूसरे कार्यकाल के आरंभ में ही अनुच्छेद 370 और 35ए को हटाकर इस मकसद को पूरा कर दिया है.”

सिंह ने कहा, “जनसंख्या नियंत्रण के लिए भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लाल किले की प्राचीर से घोषणा कर दी है.” उन्होंने कहा, “नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में इन पांच वर्षों में हम सभी कार्यकर्ताओं की उम्मीदें पूरी हो जाएंगी. इसके बाद राजनीति करने का मेरा क्या उद्देश्य होगा?”