हाजीपुर: केंद्रीय मंत्री और राष्ट्रीय लोकसमता पार्टी (रालोसपा) के अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा ने एक बार फिर बिहार में कानून एवं व्यवस्था को लेकर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि बिहार में अराजकता फैली है और अपराधियों के मन से शासन, प्रशासन के प्रति भय निकल गया है.

हाजीपुर में पूर्व वार्ड पार्षद प्रत्याशी संजीव श्रीवास्तव की हत्या के बाद मंगलवार को पीड़ित परिवार से यहां मिलने पहुंचे कुशवाहा ने इस घटना की निंदा करते हुए इस मामले की उच्चस्तरीय जांच की मांग की.

बिहार में एनडीए से अलग हो सकते हैं उपेंद्र कुशवाहा, दिए महागठबंधन में शामिल होने के संकेत

राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) के घटक दल में शामिल रालोसपा के अध्यक्ष ने कहा, “बिहार में लगातार हो रही ऐसी घटनाएं शासन, प्रशासन के लिए चुनौती जैसी हैं. राज्य में अपराधियों के मन से शासन के प्रति भय निकल गया है. ऐसे मामलों में मुख्यमंत्री को भी संज्ञान लेना चाहिए.” उल्लेखनीय है कि वैशाली जिले के नगर थाना क्षेत्र में रविवार को अपराधियों ने नगर परिषद के पूर्व वार्ड प्रत्याशी संजीव कुमार श्रीवास्तव की गोली मारकर हत्या कर दी थी.

उपेंद्र कुशवाहा की ‘खीर’ से बिहार में नई सियासी ‘खिचड़ी’, क्या छोड़ेंगे NDA?

गौरतलब है कि इसके पहले भी कुशवाहा बिहार की कानून एवं व्यवस्था और शिक्षा व्यवस्था को लेकर सरकार पर निशाना साधते रहे हैं. करीब एक सप्‍ताह पहले उन्‍होंने पटना में एक कार्यक्रम में कुशवाहा और यादवों के साथ आने की वकालत कर राज्‍य में राजग गठबंधन के भविष्‍य पर सवालिया निशान खड़े कर दिए थे. कुशवाहा ने कहा था कि अच्‍छी खीर यादवों के दूध और कुशवाहों द्वारा पैदा किए गए चावल से ही बन सकती है. इसके बाद उन्‍होंने यह भी कहा था कि राजग के ही कुछ लोग नरेंद्र मोदी को प्रधानमंत्री के रूप में नहीं देखना चाहते हैं.