पटना. लोकसभा चुनाव से पहले राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (NDA) का साथ छोड़ने वाले राष्ट्रीय लोक समता पार्टी (RLSP) के नेता उपेंद्र कुशवाहा, बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर लगातार हमलावर बने हुए हैं. ताजा घटनाक्रम में उन्होंने एक बार फिर नीतीश कुमार पर निशाना साधा है. बीते रविवार को बिहार में हुए मंत्रिमंडल विस्तार में सिर्फ जदयू विधायकों को शामिल करने को नीतीश कुमार की ‘राजनीतिक चाल’ बताते हुए उन्होंने भाजपा को सावधान किया है. राजग के पूर्व सहयोगी ने भगवा पार्टी को आगाह किया कि नीतीश कुमार उसे ‘धोखा’ देंगे. उन्होंने मीडिया के साथ बातचीत में स्पष्ट तौर पर कहा कि भाजपा को जदयू अध्यक्ष के ‘धोखा नंबर 2’ के लिए तैयार रहना चाहिए. आपको बता दें कि बिहार में मंत्रिमंडल विस्तार में भाजपा के विधायकों को शामिल नहीं किए जाने को सियासी जानकार नीतीश कुमार की ‘नाराजगी’ के तौर पर देख रहे हैं. इसके बाद से ही भाजपा और जदयू सरकार को लेकर आशंकाएं जाहिर की जाने लगी हैं.

बीते रविवार को पूर्व केंद्रीय मंत्री उपेंद्र कुशवाहा ने मीडिया के साथ बातचीत के दौरान सीएम नीतीश कुमार पर जमकर हमले किए. उन्होंने पत्रकारों से कहा, ‘मैं भाजपा को बताना चाहता हूं कि नीतीश कुमार लोगों के जनादेश का अपमान करने के लिए जाने जाते हैं. लोगों के जनादेश और गठबंधन के सहयोगियों को धोखा देना उनकी पुरानी आदतें हैं. भाजपा को ‘धोखा नंबर 2′ के लिए तैयार रहना चाहिए.’ उन्होंने कहा, ‘ऐसा कोई सगा नहीं जिसको नीतीश ने ठगा नहीं.’ उन्होंने कहा कि यह कहावत जल्द ही सच में बदल जाएगी और इसलिए भाजपा को ‘सतर्क’ रहना चाहिए.

बिहार NDA में सब कुछ ठीक है, नीतीश कुमार हमारे नेता: पासवान

बिहार NDA में सब कुछ ठीक है, नीतीश कुमार हमारे नेता: पासवान

कुशवाहा हाल ही में सम्पन्न लोकसभा चुनावों पर चर्चा करने के लिए अपनी पार्टी की बैठक के बाद यहां पत्रकारों से बात कर रहे थे. आपको बता दें कि केंद्र में भाजपा की अगुवाई वाली राजग सरकार के दोबारा सत्ता में लौटने के बाद जदयू कोटे से किसी भी नेता को मंत्री नहीं बनाया गया है. लोकसभा चुनाव के दौरान बिहार में जदयू और भाजपा 17-17 सीटों पर चुनाव लड़ी थी. इसमें भाजपा ने सभी 17 सीटों पर जीत दर्ज की, जबकि जदयू के हिस्से में इससे एक कम यानी 16 सीटें आईं. इसके बाद से कयास लगाए जा रहे थे कि केंद्रीय मंत्रिमंडल में जदयू के दो सांसदों को जगह मिल सकती है.

लेकिन अंतिम क्षणों में पता चला कि भाजपा ने जदयू के सिर्फ एक सांसद को मंत्री बनाने की पेशकश की. इसके बाद भी पीएम नरेंद्र मोदी के शपथ-ग्रहण समारोह के समय तक जदयू से किसी सांसद के मंत्री बनने या न बनने की अटकलें लग रही थीं. लेकिन शपथ-ग्रहण समारोह में शामिल होने आए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने अंतिम समय पर अपनी पार्टी के किसी भी सांसद के केंद्रीय मंत्रिमंडल में शामिल न होने की घोषणा की. नीतीश कुमार ने कहा कि उनकी पार्टी का कोई भी सांसद राजग का ‘सांकेतिक’ सहयोगी नहीं बनेगा. इसलिए जदयू का कोई सांसद मंत्री नहीं बनेगा. लेकिन उनकी पार्टी राजग में रहते हुए भाजपा को समर्थन देती रहेगी. नीतीश कुमार के इस बयान और रविवार को बिहार में मंत्रिमंडल विस्तार में सिर्फ जदयू के विधायकों को शामिल करने की घटना के बाद बिहार की सियासत फिर गर्मा गई है. इसी के बरक्स रालोसपा नेता उपेंद्र कुशवाहा ने नीतीश कुमार के एक बार फिर राजग छोड़ने के कयासों को लेकर बयान दिया है.

(इनपुट – एजेंसी)