पटना: ‘लव गुरु’ के नाम से मशहूर प्रोफेसर मटुकनाथ चौधरी पटना विश्वविद्यालय से भले ही रिटायर हो गए हों, लेकिन वह खुद को अभी भी बुजर्ग नहीं मानते. उनका कहना है, “अभी तो मैं 65 साल का लरिका (लड़का) हूं. अभी तो मैं शादी करूंगा.”वह अपनी पूर्व शिष्या जूली के साथ प्रेम संबंधों को लेकर चर्चा में रहे थे. वह वर्ष 2004 में बी़ एऩ कॉलेज में पढ़ाते समय जूली से मिले थे. इसके बाद दोनों ने शादी कर ली थी. कहा जाता है कि एक साल पहले जूली इन्हें छोड़कर चली गई. Also Read - हकलाने को लेकर प्रोफेसर ने उड़ाया स्टूडेंट का मजाक, ऋतिक ने कहा ये टीचर नहीं बददिमाग बंदर

चौधरी बुधवार को पटना विश्वविद्यालय के बी.एन. कॉलेज में हिंदी पोस्ट ग्रैजुएट (पीजी) विभागाध्यक्ष के पद से रिटायर हो गए हैं. उन्होंने अपने फेसबुक वाल पर भी खुद को ‘जवान’ बताते हुए लिखा, “चढ़ती जवानी मेरी चाल मस्तानी. मैं 65 वर्ष का लरिका हूं. मेरी जवानी ने अभी अंगड़ाई ली है. मेरे अंग-अंग से यौवन की उमंग छलक रही है. जब मैं मस्त होकर तेज चलता हूं तो लोग नजर लगाते हैं. दौड़ता हूं तो दांतों तले उंगली दबाते हैं.” Also Read - हैदराबाद में इंजीनियरिंग कॉलेज के प्रोफेसर ने 19 साल की छात्रा से लैब में किया रेप

‘लव गुरु’ ने कहा, “प्रेम के लिए कोई उम्र नहीं. ‘शादी’ तो हमलोगों के द्वारा बनाया गया शब्द है. यह वास्तव में विशेष प्रेम हैं.” उन्होंने कहा कि उनके शिष्य जिस किसी से शादी कराना चाहेंगे, उससे वह शादी कर लेंगे. Also Read - प्रोफेसर फिरोज खान ने बीएचयू के धर्म संकाय से इस्तीफा देकर कला व‍िभाग में किया ज्‍वाइन

मटुकनाथ कहते हैं, “मेरी खुशनसीबी है कि इस चढ़ती जवानी में रिटायर हो रहा हूं. लोग पूछते हैं कि रिटायरमेंट के बाद क्या कीजिएगा? चढ़ती जवानी में जो किया जाता है, वही करूंगा. मतलब यह कि मैं ब्याह करूंगा. बरतुहार बहुत तंग कर रहे हैं. उनकी आवाजाही बढ़ गई है. मेरे विद्यार्थी ही मेरे अभिभावक हैं. वे जो तय कर देंगे, आंख मूंदकर मानूंगा. उनसे बड़ा हितैषी मेरा कोई नहीं हो सकता.”

प्रोफेसर मटुकनाथ चौधरी ने खुद को एक अनुशासित, शर्मीला और परंपरा-प्रेमी बताते हुए कहा, “मैं बराबर प्रेम करता हूं. अभी भी प्रेम कर रहा हूं.” मटुकनाथ इन दिनों शास्त्री नगर स्थित अपने फ्लैट में अकेले रहते हैं.

जूली के छोड़कर जाने के संबंध में पूछे जाने पर बेबाक मटुकनाथ कहते हैं, “कौन कह रहा है कि वह छोड़ कर गई है. मैं अभी भी उससे प्रेम करता हूं. प्रेम कभी नहीं मरता. वह अब करुणा के साथ है. आज भी संकट के समय वह सबसे पहले मेरे पास आएगी.” हालांकि, उन्होंने यह भी कहा, “घर में अकेलापन अच्छा नहीं लगता. कोई नहीं होता तो अखरता है. मैं प्रारंभ से ही प्रेमी आदमी हूं.”

जूली से संबंधों की वजह से उन्हें साल 2006 में कॉलेज से निलंबित कर दिया गया था. बाद में प्रदर्शन, भूख हड़ताल और कानूनी लड़ाई के बाद उन्हें फिर से सेवा में बहाल कर दिया गया था.