Bihar E-Vimarsh: Zee मीडिया कॉरपोरेशन लिमिटेड (ZMCL) के रीजनल चैनल ZEE बिहार झारखंड ने 29 मई 2020 को 11 मंत्रियों के साथ ई-कॉन्क्लेव का आयोजन किया. ZEE बिहार झारखंड लगातार 3 वर्षों तक बिहार-झारखंड में समाचार शैली के बाजार में अग्रणी रहा है. 29 मई को आयोजित इस ई-कॉनक्लेव में सीधे मंत्रियों के साथ ई-विमर्श किया गया. लगातार साढ़े पांच घंटे तक चले इस कॉनक्लेव में बिहार सरकार के विभिन्न विभागों के मंत्रियों ने भाग लिया. Also Read - ZEE 24 कलक के ई-कॉन्क्लेव में मंत्रियों ने बताया, लॉकडाउन के बाद क्या होगा गुजरात का रोडमैप

गौरतलब है कि कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने के लिए पूरे देश में लागू लॉकडाउन 4.0 खत्म होने वाला है और बिहार में COVID के पॉजिटिव मामले 29 मई तक 3000 को पार कर गए. ऐसे में लोगों को बीमारी से बचाने और स्वास्थ्य के बुनियादी ढाँचे को सुनिश्चित करने के अलावा बिहार सरकार के सामने बड़ी संख्या में प्रवासी मजदूरों की वापसी समस्या बनी हुई है. प्रवासी मजदूर बड़ी संख्या में अपने गृह राज्य लौट रहे हैं. दूसरे राज्यों से वापस आ रहे लाखों लोगों को लाने के लिए परिवहन और आइसोलेशन की व्यवस्था करना सरकार के लिए एक बड़ा काम है. Also Read - ZEE 24 घण्टा के नूतन दिशा ई-कॉन्क्लेव में बंगाल सरकार के मंत्रियों ने बताया अम्फान और लॉकडाउन के बाद का रोडमैप

इस समय बिहार की जनता इस स्थिति से निटपने और अपने भविष्य को लेकर चिंतित है. ऐसे में Zee बिहार झारखंड ने बिहार सरकार के मंत्रियों के साथ ई-कॉनक्लेव आयोजित करने की पहल की, ताकि हमारे दर्शक जनजीवन को पटरी पर लाने की योजना के बारे में सरकारी कोशिशों को विस्तार से जान सकें.

हर सेशन आधे-आधे घंटे तक चला. यहां नेता अपने संबंधित विभाग को लेकर आने वाले समय की रणनीति के बारे में बता रहे थे. इस दौरान वे हमारे दर्शकों को मजबूत बने रहने के लिए प्रोत्साहित भी कर रहे थे. सेशन में भाग लेने वाले मंत्रियों में थे: सुशील कुमार मोदी, श्रवण कुमार, डॉ. प्रेम कुमार, जय कुमार सिंह, राणा रणधीर, श्याम रजक, विजय कुमार सिन्हा, नीरज कुमार, सुरेश कुमार शर्मा, संजय कुमार झा और मंगल पांडे. इस कॉनक्लेव में विभिन्न मंत्रालयों को शामिल किया गया ताकि दर्शक विभिन्न सेक्टर्स के रिवाइवल प्लान के बारे में जानकारी हासिल कर सकें.

इस अवसर पर बोलते हुए, ZMCL क्लस्टर 2 के सीईओ, पुरुषोत्तम वैष्णव ने कहा, “ई विमर्ष ब्रांड के तहत, हमने हाल ही में ZEE हिंदुस्तान के लिए विभिन्न राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ ई-कॉनक्लेव आयोजित किया और राजस्थान, बिहार, गुजरात और ओडिशा और फिर बंगाल व झारखंड के लिए स्टेट लेवल ई-कॉनक्लेव आयोजित कीं. कोरोना के कारण इतनी अनिश्चितता के बावजूद, यह महत्वपूर्ण है कि नेता सीधे हमारे नागरिकों को उचित सवालों का जवाब दें. यही ई-विमर्ष सीरीज की अवधारणा के पीछे एकमात्र उद्देश्य रहा है.”