Union Budget 2020: वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (Finance Minister Nirmala Sitharaman) ने शनिवार को स्टार्टअप्स को प्रोत्साहन के लिए कई उपायों की घोषणा की. इनमें कर प्रोत्साहनों को उदार करना और स्टार्टअप्स तथा उद्यमियों के लिए निवेश मंजूरी प्रकोष्ठ का गठन शामिल है.Also Read - एलआईसी के बाद अब आई दो बैंकों के निजीकरण की बारी, कानून में संशोधन के लिए तेज होगी प्रक्रिया

Union Budget 2020: जानिए बजट से क्या होगा सस्ता, क्या होगा महंगा, पढ़ें हर डिटेल Also Read - खाद्य तेलों की कीमतों में आएगी कमी, भारत ने दिया 20 लाख टन तेल के शुल्क मुक्त आयात की अनुमति

वित्त मंत्री ने 2020-21 का बजट पेश करते हुए शुरुआती चरण के स्टार्टअप्स के विकास के लिए शुरुआती चरण का कोष, कारोबार शुरू करने के लिए कोष सहित, प्रदान करने का भी प्रस्ताव किया. उन्होंने सरकार की सभी ढांचागत एजेंसियों से कहा कि वे स्टार्टअप्स के साथ काम करें क्योंकि वे नागरिकों के लिए गुणवत्ता वाले सार्वजनिक ढांचे के लिए मूल्यवर्धित सेवाएं प्रदान करने में सहायक हो सकते हैं. वित्त मंत्री ने स्टार्टअप्स के लिए कर भुगतान को भी सुगम करने का प्रस्ताव किया है जिसका उभरते उद्यमियों ने स्वागत किया. Also Read - बड़ी खबर: केंद्र सरकार एलपीजी गैस सिलेंडर पर 9 करोड़ लाभार्थियों को देगी बड़ी सब्‍सिडी

Union Budget 2020: कमजोर वर्गों के छात्रों के लिए ऑनलाइन डिग्री कोर्स, जल्द आएगी नई शिक्षा नीति

वित्त मंत्री ने कहा कि स्टार्टअप पारिस्थितिकी तंत्र को प्रोत्साहन के लिए मैं कर्मचारियों पर कराधान के बोझ को सुगम करने का प्रस्ताव करती हूं. इसके तहत कर भुगतान को पांच साल या जब तक वे कंपनी नहीं छोड़ देते या उसे बेच नहीं देते, जो भी पहले होगा, तक के लिए टाला जाएगा.