नई दिल्ली: सरकारी दूरसंचार कंपनी भारत संचार निगम लिमिटेड (बीएसएनएल) के लगभग 75,000 कर्मचारी अब तक
स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति योजना (वीआरएस) का विकल्प चुन चुके हैं. कंपनी के चेयरमैन और प्रबंध निदेशक पी. के. पुरवार ने
गुरुवार को यह जानकारी दी.

कंपनी की वीआरएस योजना को चुनने के लिए करीब एक लाख कर्मचारी योग्य हैं, जबकि कंपनी के कुल कर्मचारियों की संख्या
करीब डेढ़ लाख है. कंपनी ने आंतरिक तौर पर लक्ष्य रखा है कि करीब 77,000 कर्मचारी इस विकल्प का चुनाव करेंगे.

स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति योजना की प्रभावी तारीख 31 जनवरी 2020 है.

दूरसंचार कंपनी की यह योजना पिछले सपताह लाई गई और तीन दिसंबर तक खुली रहेगी. बीएसएनएल को उम्मीद है कि
70,000 से 80,000 कर्मचारी वीआरएस योजना को अपनाएंगे और इससे वेतन मद में करीब 7,000 करोड़ रुपए की बचत
होगी. महानगर टेलीफोन निगम लि. ने भी वीआरएस योजना लाई है. कर्मचारियों के लिए यह योजना भी तीन दिसंबर तक
खुली है.

वीआरएस योजना को देखते हुए दूरसंचार विभाग ने बीएसएनएल को व्यापार खासकर ग्रामीण क्षेत्रों में टेलीफोन एक्सचेंज की
व्यवस्था सुचारु बनाए रखने तथा परिवर्तन के दौर को सुगम बनाए रखने के लिए उपाय करने को कहा है. वीआरएस को
कंपनी के करीब आधे कर्मचारियों द्वारा अपनाए जाने की संभावना के बीच यह बात कही गई है.