नई दिल्ली: रिलांयस कम्युनिकेशन कंपनी इन दिनों भारी कर्ज में डूबी है, हालात इतने खराब हो चुके हैं कि कंपनी ने अपने लगभग 94 फीसदी कर्मचारियों को हटा दिया है. अब कंपनी में कर्मचारियों की संख्या सिर्फ 3,400 रह गई है जबकि एक समय ऐसा था कि रिलांयस कम्युनिकेशन में 52 हजार कर्मचारी काम करते थे.Also Read - रिलायंस कम्युनिकेशन की कर्ज सीमा पर लगी 50 हजार करोड़ रुपए की लिमिट

Also Read - reliance communications terminate 380 employee | रिलायंस कम्युनिकेशंस ने 380 कर्मचारियों को किया बर्खास्त, 260 पर भी लटकी है तलवार

बुधवार को बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज को दी गई जानकारी में रिलांयस कम्युनिकेशन कंपनी ने कह कि, ”आरकॉम समूह में कर्मचारियों की कुल संख्या उच्चतम स्तर 52,000 से घटकर 3,400 पर आ गई है, कर्मचारियों की कुल संख्या में 94 प्रतिशत की कमी आई है.’

छिड़ी प्राइस वॉर, जियो हर ग्राहक को रोजाना देगा अतिरिक्त 1.5 जीबी 4जी डेटा 

वर्ष 2008 से 2010 के बीच कंपनी अपने शिखर पर थी. 45 हजार करोड़ रुपए के कर्ज तले दबी रिलांयस कम्युनिकेशन ने इस साल जनवरी से अपना मोबाइल सेवा का कारोबार बंद कर दिया था, फिलहाल कंपनी सिर्फ बिजनेस टू बिजनेस (बी 2 बी) स्तर पर ही दूरसंचार सेवाएं दे रही है. कंपनी का मानना है कि बी 2 बी इकाई उद्योग में मौजूदा टैरिफ में उतनी प्रतिस्पर्धा नहीं है.

आरकॉम ने कहा, ‘एयरटेल, आइडिया, वोडाफोन और टेलिकॉम के क्षेत्र में आई नई कंपनी रिलायंस जियो के बीच शुल्क में कटौती की होड़ से वायरलेस क्षेत्र में वित्तीय लेखाजोखा प्रभावित हुआ है. अब जब 18 जनवरी को आरकॉम बी2सी (बिजनस टू कंज्यूमर) सेवा से बाहर हो गई है, ऐसे में कंपनी पर कोई प्रभाव नहीं पड़ा.’

(इनपुट: एजेंसी)